तेलंगाना सरकार द्वारा सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े हुए मुस्लिमों को आरक्षण के प्रस्ताव को लेकर भारतीय जनता पार्टी विरोध में आ गई हैं. बीजेपी ने इसे असंवैधानिक और अल्पसंख्यक वोट बैंक की राजनीति से प्रेरित बताया हैं.

तेलंगाना भाजपा के अधिकारिक प्रवक्ता कृष्ण सागर राव ने कहा, चंद्रशेखर राव की सरकार मुस्लिमों को 12 प्रतिशत आरक्षण देगी जो न सिर्फ बिल्कुल झूठ है बल्कि यह असंवैधानिक और अल्पसंख्यक वोट बैंक की राजनीति भी है. उन्होंने आगे कहा, एक संवैधानिक पद पर आसीन मुख्यमंत्री केसीआर द्वारा मुस्लिम वोटों को रिझाने के लिए इस तरह के प्रस्ताव का भाजपा ने पुरजोर विरोध किया है.

बीजेपी प्रवक्ता ने कहा, मैं बहुत अच्छी तरह से जानता हूं कि उच्चतम न्यायालय द्वारा निर्धारित आरक्षण सीमा का कोई उल्लंघन नहीं कर सकता है और यह बिल्कुल स्पष्ट है कि उच्चतम न्यायालय किसी धर्म आधारित आरक्षणों के बिल्कुल खिलाफ है। लेकिन इसके बावजूद मुख्यमंत्री इस तरह के फालतू बयान दे रहे हैं.

याद रहें कि मुख्यमंत्री राव ने बुधवार को विधानसभा में जानकारी देते हुए कहा कि बजट सत्र में एक बिल पेश किया जाएगा जिसमें मुस्लिमों में पिछड़े वर्गों के लिए 12 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान होगा. इसी के साथ राज्य सरकार केंद्र पर दबाव डालेगी कि इस कानून को संविधान की नवीं सूची में शामिल किया जाए.

उन्होंने कहा कि आबादी के अनुपात को देखते हुए मुसलमानो को आरक्षण का लाभ दिया जाएगा. अगर केंद्रीय सरकार इस कानून को रद्द करती हैं तो प्रदेश कानूनी लड़ाई लड़ेगा. उन्होंने आगे कहा, उनकी सरकार ने मुस्लिमों को यह आरक्षण देने का फैसला धार्मिक आधार पर नहीं बल्कि उसके सामाजिक, आर्थिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन के आधार पर किया है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें