अल्पसंख्यक छात्रों को ऐक्टिविजम और ऐक्स्ट्रि मिजम में फर्क समझाने के लिए तेलंगाना सरकार की और से वर्कशॉप आयोजित की गई. ये वर्कशॉप ब्रिटिश हाई कमिशन की मदद से आयोजित की गई.

ये वर्कशॉप सितंबर-अक्टूबर 2016 में आयोजित की गई थी. जिसका समापन अब किया गया. इस दौरान मुस्लिम युवाओं के सशक्तीकरण मुख्य मुद्दा रहा. तेंलगाना के माइनॉरिटी वेलफेयर डिपार्टमेंट (MWD) के अडवाइजर एके खान ने कहा कि युवाओँ के बीच जादरूकता की कमी हैं.

उन्होंने कहा कि युवाओं को चरमपंथ और अतिवाद से बचाने के लिए शिक्षण संस्थानों को ऐसे और कार्यक्रम आयोजित करने चाहिए. एमडब्ल्यूडी सचिव उमर जलील ने भी ऐसे कार्यक्रम आयोजित करने पर जोर दिया.

हैदराबाद के ब्रिटिश डेप्युटी हाई कमिश्नर ऐन्ड्रू ऐलिस्टर ने जोर देकर कहा कि चरमपंथी ताकतें आजकल युवाओं को सोशल मीडिया के जरिए बहकाने की कोशिश करते हैं. उन्होंने कहा, हमें ऐसे कार्यक्रमों के माध्यम से इन ताकतों से निबटने की जरूरत है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें