Monday, October 18, 2021

 

 

 

तेलंगाना सरकार ने उर्दू को घोषित किया राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा

- Advertisement -
- Advertisement -

kcr11

तेलंगाना की चंद्रशेखर राव ने ऐतिहासिक फैसला लेते हुए उर्दू को राज्य की दूसरी आधिकारिक भाषा घोषित किया है. अब राज्य में सरकारी कामकाज में तेलुगू के बाद उर्दू में भी कामकाज किया जा सकेगा.

शुक्रवार (10 नवंबर) को एक सभा को संबोधित करते हुए केसीआर ने एलान किया कि लंबे समय से मांग की जा रही थी कि उर्दू को दूसरी आधिकारिक भाषा बनाई जाए. हालांकि, आंध्र प्रदेश का दृष्टिकोण तेलंगाना से अलग है. 23 जिलों में उर्दू भाषी लोग नहीं हैं, इसलिए वहां कुछ जिलों में यह लागू है और कुछ जिलों में नहीं है.

उन्होंने कहा, लेकिन हम यहां जिला स्तर पर नहीं बल्कि राज्य स्तर पर उर्दू को दूसरी आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाने का एलान करते हैं. अब पूरे तेलंगाना में उर्दू में भी कामकाज किया जा सकेगा.

चंद्रशेखर राव की सरकार पर अब तुष्टिकरण के आरोप लग रहे है. बीजेपी और कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर वोट बैंक के खातिर मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोप लगाया है.

ध्यान रहे अक्टूबर में भी बीजेपी और कांग्रेस ने सीएम केसीआर के उस प्रस्ताव का विरोध किया था जिसके तहत राज्य में मुस्लिमों के लिए एक्सक्लूसिव इंडस्ट्रियल एस्टेट और आईटी कॉरिडोर बनाए जाने की बात कही गई थी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles