महाराष्ट्र के पुणे में हरिपाठ न करने पर एक शिक्षक द्वारा छात्र की बेरहमी से पिटाई करने का मामला सामने आया है।  जिसके बाद छात्र को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक हरिपाठ का अध्यन न करने पर शिक्षक ने एक नाबालिग बच्चे को बहुत बुरी तरह मारा, जिसके चलते वह कोमा में चला गया। पुलिस ने मामला दर्ज़ कर आरोपी संस्था संचालक को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस इंस्पेक्टर नरेंद्र जाधव ने बताया, “छात्र हरिपाठ ठीक से नहीं पढ़ पाया, जिस कारण शिक्षक ने छात्र की छड़ी से पिटाई कर दी। पीड़ित छात्र की हालत गंभीर बनी हुई है और अस्पताल में उसका इलाज किया जा रहा है।” पुलिस के मुताबिक इस मामले में आईपीसी की धार 307 के तहत केस दर्ज किया गया है।

जानकारी के अनुसार मामला धार्मिक शिक्षण संस्थान से जुड़ा है। 11 वर्षीय ये छात्र हरिपाठ को पूरा करने में विफल रहा जो 28 भक्ति कविताओं का एक संग्रह है। संस्था के संचालक महाराज पोव्हने ने बच्चे को हरिपाठ पढ़ने को कहा, लेकिन बच्चा हरिपाठ सही ढंग से नहीं पढ़ पाया। जिसके चलते संचालक नाराज़ हो गया और उसे बुरी तरह पीटने लगा। संचालक ने बच्चे को इतनी बुरी तरह से मारा कि दहशत के चलते बच्चा बेहोश हो गया।

उसकी मां ने इस मामले में महराज के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। डॉक्टर के मुताबिक, बच्चे के छाती में गंभीर चोट लगने के कारण वह कोमा में चला गया है। फिलहाल उसका इलाज जारी है। फिलहाल लड़के का पिंपरी चिंचवड़ के नागरिक अस्पताल में इलाज चल रहा है और उसकी हालत गंभीर बताई जाती है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन