पिछले 41 दिनों से दिल्ली के जंतर मंतर पर अपनी मांगों के लिए प्रदर्शन कर रहे किसानों ने तमिलनाडु के किसानों ने मुख्यमंत्री ई. पलानीस्वामी के आश्वासन के बाद रविवार को अपना आंदोलन स्थगित कर दिया हैं.

किसानों के नेता अय्यक्कन्नू ने संवाददाताओं से कहा, ‘हमारी मांगों पर फैसला करने का अधिकार मुख्यमंत्री और केंद्रीय वित्त मंत्री के पास है. अपने मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए आश्वासन के आधार पर हमने आंदोलन एक महीने के लिए स्थगित करने का फैसला किया है. उन्होंने कहा, ‘अगर वादे पूरे नहीं किए गए तो हम 25 मई को राष्ट्रीय राजधानी में बड़े स्तर पर आंदोलन शुरू करेंगे.’

उन्होंने कहा कि तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता एमके स्टालिन, एमडीएमके नेता प्रेमलता विजयकांत, तमिल मनीला कांग्रेस प्रमुख जीके वासन और भाजपा के पी. राधाकृष्णन के आश्वासनों के आधार पर भी यह फैसला किया गया. इस बारें में मुख्यमंत्री ने कहा, ‘प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान हमने अन्य मुद्दों के अलावा किसानों का मुद्दा भी उठाया.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ किसान नेता अय्यक्कन्नू ने कहा कि हम कल या परसों अपने घरों के लिए रवाना होंगे और 25 अप्रैल को तमिलनाडु में राज्यव्यापी बंद में शामिल होंगे. याद रहे किसान 40,000 करोड़ रुपये के सूखा राहत पैकेज, फसल ऋण माफी और कावेरी प्रबंधन बोर्ड की स्थापना की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं.

Loading...