Friday, December 3, 2021

दलित पंचायत प्रधान के साथ भेदभाव, जमीन पर बैठाया, राष्ट्रध्वज भी नहीं फहराने दिया

- Advertisement -

तमिलनाडु के कडलूर जिले में एक दलित महिला पंचायत प्रधान को जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा। दरअसल, पंचायत नेत्री को एक बैठक में जमीन पर बैठी बैठने के लिए मजबूर किया गया जबकि अन्य लोग कुर्सी पर बैठे रहे। इतना ही नहीं उन्हे राष्ट्रध्वज भी फहराने नहीं दिया गया।

कुड्डालोर के जिला कलेक्टर ने मामला सामने आने के बाद पंचायत सचिव को निलंबित कर दिया है और मामले में जांच के आदेश दिए हैं। तस्वीर वायरल होने के बाद इस घटना को लेकर सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है। तस्वीर में जमीन पर बैठी महिला थेरकु थित्ती गांव (Therku Thittai village) की पंचायत की अध्यक्ष हैं।

महिला नेता ने कहा, “मेरी जाति की वजह से उपाध्यक्ष ने मुझे बैठक की अध्यक्षता नहीं करने दी। यही नहीं, उन्होंने मुझे झंडा भी फहराने नहीं दिया। उन्होंने अपने पिता से यह काम करवाया। हालांकि, मैं उच्च जातियों के साथ लगातार सहयोग करती आ रही हूं।”

जिलाधिकारी चंद्र शेखर सखामुरी और पुलिस अधीक्षक एम श्री अभिनव ने गांव का दौरा किया और शनिवार को मामले की जांच-पड़ताल की। अभिनव ने कहा, ‘‘हम उनका (राजेश्वरी का) बयान लेंगे और उपयुक्त कार्रवाई की जाएगी।’’

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि उनकी जान को कोई खतरा नहीं है। गांव में पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘अन्य वार्ड सदस्यों ने भी महसूस किया कि क्या कुछ गलत हुआ है।’’ तस्वीर के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इसमें 17 जुलाई 2020 की तारीख दिख रही, जब यह खींची गई थी।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles