राजस्थान के अलवर में कथित गौरक्षा के नाम पर हुए मुस्लिम युवक की हत्या के मामलें में अब राज्य के गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया के सुर बदलते हुए नजर आ रहे हैं. उन्होने कहा कि अपराधी चाहे उनका बेटा ही क्यों न हो छोड़ा नहीं जाएगा.

दरअसल कटारिया ने कथित गौरक्षकों के हाथों पहलू खान की हत्या को कटारिया ने जायज करार देने की कोशिश की थी. साथ ही उन्होने गलत जानकारी भी प्रदान की थी. जिस पर उन्होंने अब सफाई दी हैं. टारिया ने सफाई में कहा कि पिटाई के वक्त पुलिस मौके पर नहीं थी. पुलिस को थाने में सूचना मिली. पहुंची तब तक पिटाई करने वाले भाग गए थे.

इसके अलावा कटारिया ने कहा कि उधर जयपुर नगर निगम ने बिना अधिकार के रवानगी की पर्ची जारी कर गलती कि तो उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी. कटारिया ने कहा कि निगम कमिश्नर को तलब किया जिन्होंने कहा कि निगम की पर्ची केवल पशु हटवाड़े से लाने की है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गृहमंत्री कटारिया ने कहा घटना के वक्त पुलिस बहरोड के नाके पर थी. जहां सूचना मिली की छह गाड़ियां जा रही थी. थाने पर फोन आया तब तक वे लोग भाग चुके थे. उन्होंने आरोपियों की गिरफ्तारी पर कहा कि, अरेस्ट करेंगे तो भी फुटेज के आधार पर करेंगे अगर गलत हुए तो छोड़ेंगे. उन्होंने यह भी कहा कि अपराधी चाहे गुलाबचंद का बेटा ही हो…मुझे अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार कानून ने दिया.

Loading...