sachin walia

उत्तर प्रदेश का सहारनपुर जिला बुधवार को एक बार फिर से सुलग उठा है. इस बार सुलगने का कारण महाराणा प्रताप की जयंती के मौके पर भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया की हत्या है.

दरअसल, भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के छोटे भाई सचिन वालिया की उनके गांव रामनगर में उस समय गोली लगने से मौत हो गई जब वह अपने घर लौट रहा था. आरोप है कि गांव में स्थित महाराणा प्रताप भवन में महाराणा प्रताप जयन्ती कार्यक्रम में आए युवकों ने सचिन की गोली मारकर हत्या की है.

घटना के बाद पूरे ज़िले में माहौल तनावपूर्ण हो गया. भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं ने अस्पताल पहुंच जमकर हंगामा काटा. पुलिस से शव छीन लिया. पुलिस द्वारा हल्का लाठी चार्ज किया गया. शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शहर की इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. स्कूलों की समय से पहले ही छुट्टी करने के आदेश कर दिए गए. बता दें कि पिछले साल भी इसी दिन दलितों और राजपूतों में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी.

सहारनपुर के एसएसपी बबलू कुमार ने कहा कि पहली नजर में यह मामला संदिग्ध लग रहा है. हम हर पहलू को ध्यान में रखते हुए मामले की जांच कर रहे हैं. फिलहाल, हालात तनावपूर्ण हैं. हालात पर नियंत्रण रखना पुलिस-प्रशासन की सबसे बड़ी चुनौती है.

सचिन के भाई भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया ने कहा कि उन्होंने पहले ही यहां कार्यक्रम नहीं होने देने की बात कही थी, इसके बाद भी परमीशन दी गई. उन्हें आशंका थी कि कुछ न कुछ ऐसी घटना घट सकती है. इसके बाद जयंती मनाने के दौरान सचिन को गोली मार दी गई.

Loading...