islam

यूपी के कानपुर में एक दलित दम्पति ने ‘भागवत कथा’ में भाग लेने से रोकने वाले अगड़ी जाति के लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होने पर इस्लाम धर्म अपनाने की चेतावनी दी है.

पुलिस उप महानिरीक्षक रतनकांत पाण्डेय ने बताया कि रसूलाबाद थाना क्षेत्र के नारखुर्द गांव में रहने वाली जया देवी ने आरोप लगाया है कि गत 22 मार्च को वह गांव में भगवत कथा के आयोजन के दौरान आरती करने जा रही थी, तो नरेन्द्र, अजय, रोहित, अम्बिका और चंद्रशेखर नामक लोगों ने उसे बाद में आने को कहा. जब वह फिर आरती की थाल लेकर आई तो आरोपियों ने उसकी थाल फेंक दी.

पाण्डेय के मुताबिक जया का आरोप है कि थाल फेंके जाने का विरोध करने पर आरोपियों ने उसके साथ धक्का-मुक्की की और जातिसूचक अपशब्द भी कहे. रसूलाबाद पुलिस ने आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पीड़ित महिला ने बताया कि हम हिन्दू हैं, हिन्दू होने नाते मंदिर की पूजा करेंगे, न कि मस्जिद में…अगर हमें मंदिर में पूजा करने से रोका गया तो वो मजबूर होकर मुस्लिम धर्म अपना लेगी. इसके बाद वो पीड़ित महिला थाने पहुंची और 5 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया.

बहरहाल, पुलिस उप महानिरीक्षक ने कहा कि दलित महिला को आरती में जाने से रोकने के आरोप की जांच की जा रही है. अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.