पिछले साल गोरखपुर में हुई मासूमों की मौत के मामले में आरोपी बनाए गए डा. कफील को जेल में हार्ट अटैक आया था. उनकी पत्नी का आरोप है कि जेल प्रशासन ने उन्हें समुचित इलाज उपलब्ध नहीं कराया.

कफील की पत्नी डॉ. शबिस्तां खान ने कहा कि जेल में बंद उनके शौहर को पिछली 29 मार्च को दिल का ज़बरदस्त दौरा पड़ा था लेकिन उन्हें समुचित इलाज नहीं दिया गया. इसके अलावा गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य डॉक्टर राजीव मिश्रा भी लीवर की बीमारी और मधुमेह से पीड़ित हैं, उन्हें भी समुचित इलाज नहीं दिया जा रहा है.

उन्होंने जेल प्रशासान पर अपने पति की जान लेने की साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कहा कि एनआरएचएम से जुड़ें डॉक्टरों की तरह उनके पति की भी जान लेने की कोशिश हो सकती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

kafeel 1502679277 618x347

डा. सबिस्ता खान ने ‘हिन्दुस्तान को बताया कि उनके पति हृदयरोग से पीड़ित हैं. 28 मार्च को उन्हें जेल में हार्ट अटैक आया था. जेल प्रशासन ने चिकित्सों को दिखाया भी था. जेल प्रशासन को मालूम है कि उनके पति की हालत ठीक नहीं है लेकिन उन्हें कहीं अच्छी जगह नहीं दिखाया गया.  किसी अच्छे चिकित्सक से उनका इलाज नहीं कराया गया.

उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उनके पति को जेल के मुलाहिजा बैरक में रखा जाता है जहां पहले से ही बंदियों की संख्या बहुत ज्यादा है. उनका स्वास्थ्य खराब है इसके बाद भी उनके खाने-पीने का सही बंदोबस्त नहीं किया जा रहा है. सबिस्ता खाने कहा कि जेल में उनका आठ किलो वजन भी घट गया है.

Loading...