दलितों ने इस्लाम धर्म अपनाने की धमकी को एक हथियार बना लिया है. किसी भी स्थिति में प्रशासन पर दबाव बनाने के लिए दलित आए दिन इस्लाम धर्म अपनाने का ऐलान कर देते है. जबकि इस्लाम धर्म में खुद इस तरह से इस्लाम धर्म अपनाने की इजाजत नहीं दी गई है.

एक बार फिर से युवक की हत्या मामले में कठोर कार्रवाई न होने और लगातार हो रहे अत्याचार के चलते शोभापुर के दलितों ने प्रशासन को चेतावनी दी है, कहा अगर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो गांव के सभी दलित इस्लाम धर्म अपना लेंगे.

शोभापुर के दलित ग्रामीणों का आरोप है कि बवाल के बाद से लगातार पुलिस उन पर बेवजह अत्याचार कर रही है. विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ता उन पर हमला करने के लिए लगातार गांव में घूम रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि शोभापुर गांव में सरेशाम एक दलित युवक को उपद्रवी बताकर गोलियां बरसा हत्या कर दी थी. ये मामला आपसी रंजिश का बताया जा रहा है. इसी बीच काफी लोगों ने गांव से पलायन कर भी दिया है और गांव की दलित बस्ती में सन्नाटा है. वहीँ दूसरी और पुलिस पलायन की बात से इनकार कर रही है.

पुलिस महानिदेशक ने कहा, ‘शोभापुर से दलित समुदाय के पलायन की ख़बर ग़लत है। पुलिस उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई कर रही है जिनपर भारत बंद के दौरान हिंसा करने का आरोप है लेकिन किसी भी निर्दोष को सताया नहीं गया है. हो सकता है कुछ लोगों ने गांव छोड़ा हो लेकिन ये वो लोग हैं जिनके बारे में ऐसा कहा जा रहा है कि वो भी हिंसा में शामिल थे.’

Loading...