pali

रामनवमी के बाद से ही देश के कई हिस्से सांप्रदायिक हिंसा की आग में झुलस रहे है. अब इससे राजस्थान भी अछूता नहीं रहा. शनिवार को हनुमान जयंती शोभा यात्रा के बाद पाली ज़िले के जैतारण क्षेत्र भी सांप्रदायिक हिंसा की आग में सुलग उठा है.

विवादित गानों और नारों से उपजे विवाद के बाद जुलुस पर हुई पत्थरबाजी में कई लोग घायल भी हुए है. पुलिस के मुताबिक जैतारण कस्बे में स्थिति नियंत्रण में है लेकिन तनाव को देखते हुए कुछ क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. कुछ लोगों को गिरफ़्तार भी किया गया है.

पुलिस अधिकारी एनआरके रेड्डी ने एनडीटीवी को बताया कि घटना के बाद भीड़ को हटाने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े गए और पुलिस फोर्स का इस्तेमाल किया गया. रिपोर्ट के अनुसार पुलिस की इस कार्रवाई से गुस्साई भीड़ ने बाद में एक बस और ट्रैक्टर सहित आधा दर्जन वाहनों को आग के हवाले कर दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पाली में हिंसा

वहीं, राज्य के गृह मंत्री ग़ुलाब चंद कटारिया ने बीबीसी को बताया कि कुछ हिंसक घटनाओं के बाद जैतारण में कर्फ्यू लगाया गया है. उन्होंने बताया, “शनिवार को जैतारण में एक शोभा यात्रा के दौरान आगज़नी और तोड़-फोड़ हुई जिसके बाद तनाव को देखते हुए कर्फ्यू लगाना पड़ा है.”

पाली के पुलिस अधीक्षक दीपक भार्गव ने हिंसा में पांच लोगों के घायल होने की पुष्टि की है. जिलाधिकारी सुधीर कुमार शर्मा ने बताया कि स्थिति पर नियंत्रण करने के लिए इलाके में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है.