kashmiri children

जम्मू और कश्मीर कोयलेशन ऑफ सिविल सोसाइटी (जेकेसीसीएस) की और से जारी रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि 2003 के बाद से कश्मीर में हिंसा के दौरान 300 से अधिक बच्चों की मौत हुई है.

Impact of Violence on the Children of Jammu and Kashmir नामक इस रिपोर्ट में बताया गया कि पिछले पंद्रह वर्ष में 318 बच्चों की हत्या हुई है. इसी अवधि में यानि 2003 से जम्मू-कश्मीर में 4571 नागरिक भी मारे गए.

बता दें कि 2000 में स्थापित जेकेसीसीएस श्रीनगर में स्थित विभिन्न गैर-वित्त पोषित, गैर लाभ, अभियान, अनुसंधान और वकालत संस्थाओं का एक मिश्रण है, जो संघर्ष संबंधी डेटा और सूचनाओं को प्रस्तुत करती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ये संस्था एसोसिएशन ऑफ डिप्डीएयर पीसेंस (एपीडीपी), पब्लिक कमिशन ऑन ह्यूमन राइट्स (पीसीएचआर) और इंटरनेशनल पीपल्स ट्रिब्यूनल ऑन ह्यूमन राइट्स एंड जस्टिस इन इंडियन-प्रशासित कश्मीर (आईपीटीके) के साथ मिलकर काम करती है.

इसके अलावा रिपोर्ट में पिछले 15 सालों में गिरफ्तारी, जन हिंसा, बच्चों के खिलाफ यौन हिंसा का आंकड़ा भी शामिल है. यह जम्मू और कश्मीर में हिंसा की विभिन्न घटनाओं में पिछले पंद्रह वर्ष (2003 से 2017) में बच्चों के हत्याओं के आंकड़े, ग्राफ, आंकड़े और विश्लेषण प्रदान करटी है.

Loading...