farm

मध्य प्रदेश में किसानों के आत्म्हत्या के एक बाद एक मामले सामने आ रहे है. इस बार बेहद ही चोकाने वाला मामला सामने आया है. कर्ज चुकाने के लिए एक किसान ने अपने बेटे को गिरवी रख दिया. लेकिन जब नहीं छुड़ा पाया तो खुदखुशी कर ली.

घटना बुरहानपुर जिले की है. गांव बोलाना के किसान ने अपने बेटे को गिरवी रखकर 2.5 लाख रुपए का कर्ज लिया था, लेकिन फसल बर्बाद होने के कारण किसान अपना कर्ज नहीं चुका पाया और उसने आत्महत्या कर ली.

इस मामले में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि ‘यह असंवेदनशीलता की हद है. क्या सरकार किसानों की आमदनी को दोगुना कर रही है, जैसा कि सरकार ने वादा किया है, या फिर सरकार, किसानों को कंगाल बना रही है?’

source: iStock

कांग्रेस ने सरकार की जमकर आलोचना की है और पीड़ित परिवार के लिए 10 लाख रुपए मुआवजे और गिरवी बेटे को छुड़ाने की मांग की. विपक्ष ने दावा किया कि शिवराज सिंह चौहान सरकार के तीन कार्यकाल में 5500 से भी ज्यादा किसान खुदकुशी कर चुके हैं.

इस मामले में पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार चौहान के बयान ने स्थिति को और भी ज्यादा बिगाड़ दिया है. नंदकुमार, जो कि मध्यप्रदेश के खांडवा से सांसद भी हैं, उन्होंने कहा कि “कर्ज के बदले में बच्चों को गिरवी रखने की परंपरा रही है.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?