afsana

रांची : रांची के पुंदाग जामा मस्जिद के समीप रहने वाली मारवाड़ी कॉलेज की छात्रा अफसाना परवीन की हत्या के मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है.

हत्याकांड के छह दिनों बाद पुलिस की और से अफसाना की तलाश के लिए विज्ञापन जारी किया गया है. विज्ञापन रांची के एक प्रतिष्ठित अखबार के पृष्ठ संख्या 13 में प्रकाशित हुआ. जिस विज्ञापन को अखबार में प्रकाशित करवाया गया है, उसमें डीएसपी मुख्यालय वन अमित कुमार कच्छप का नंबर डाला गया है.

इस घटना के बाद अब एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने गुरुवार को अफसाना के हत्यारों की  सूचना देनेवालों को उचित इनाम दिये जाने की घोषणा करते हुए संशोधित सूचना जारी की है. जारी सूचना के अनुसार अफसाना शव सात अप्रैल को लोहरदगा के कैरो थाना क्षेत्र के चीपा ग्राम स्थित नदी किनारे से बरामद किया  गया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

अफसाना मर्डर केस में एसआइटी गठित, जांच तेज

बता दें कि अफसाना छह अप्रैल को घर से कॉलेज के लिए निकली थी. जब से ही वह लापता थी. परिजनों ने अफसाना की गुमशुदगी को लेकर शिकायत दर्ज कराई थी. दो दिनों तक पुलिस उसे खोज नहीं पायी. तीसरे दिन अफसाना की लाश नगजुआ गांव से मिली.

अफसाना हत्याकाड में राची जोन के डीआईजी एवी होमकर के निर्देश पर एसआइटी का गठन किया है. एसआईटी जाच का नेतृत्व लोहरदगा एसपी राजकुमार लकड़ा करेंगे. समन्वय की जिम्मेदारी हटिया डीएसपी विकास कुमार पाडेय को दी गयी है. टीम में जगन्नाथपुर थानेदार अनूप कुमार कर्मकार, पुंदाग ओपी प्रभारी मो. फारुख, किस्को अंचल के इंस्पेक्टर संजय कुमार और कैरो थानेदार रामाशीष पासवान को शामिल किया गया है.

Loading...