alim wife3

रामगढ़: झारखंड की एक अदालत ने शुक्रवार को गोरक्षा से जुड़े एक हत्या के मामले में 11 ‘गो-रक्षकों’ को दोषी करार दिया है. इनमे स्थानीय बीजेपी नेता भी शामिल है. इन सभी की सजा का ऐलान 20 मार्च को होगा.

इसी बीच अलीमुद्दीन की पत्नी मरियम खतून ने कहा कि वह बदला नहीं बल्कि इंसाफ चाहती है. उन्होंने कहा कि वह चाहती है कि अदालत हत्यारों को फांसी की बजाय उम्र कैद की सज़ा दें. उन्होंने कहा, “हालांकि उन्होंने मेरे पति की हत्या कर दी और मेरे बच्चों को अनाथ कर दिया. लेकिन मैं नहीं चाहता कि वे अपनी ज़िंदगी खो दें. मैं चाहूंगी कि अदालत उन्हें उम्र कैद की सज़ा दें.

उन्होंने इस फैसले का स्वागत किया और बिना देरी के न्याय देने के लिए न्यायपालिका का धन्यवाद किया. उन्होंने कहा, “हमें बहुत सारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, लेकिन हम अदालत के फैसले से संतुष्ट हैं.”

Ramgarh Lynching

बता दें कि रामगढ़ में बीते वर्ष 29 जून को गाड़ी में भरकर गोमांस ले जाने की अफवाह फैलाकर पीट-पीटकर की गई अलीमुद्दीन अंसारी की हत्या के मामले में स्थानीय भाजपा नेता नित्यानंद महतो, विक्की साव, सिकंदर राम, उत्तम राम, विक्रम प्रसाद, राजू कुमार, रोहित ठाकुर, और कपिल ठाकुर को कोर्ट ने धारा 147, 148, 427/149, 135/149, 302/149 के तहत दोषी करार दिया. इसमें तीनों मुख्य आरोपी को धारा 120 (बी) के तहत भी दोषी पाया गया है.

अदालत ने मुख्य आरोपी को घटना का मुख्य साजिशकर्ता माना है. इसके अलावा सभी आरोपियों के खिलाफ मजमा लगाकर दंगा भड़काने, मारपीट, आगजनी और हत्या का दोषी करार दिया है. देश में ऐसा पहली बार हुआ है जब कथित गो-रक्षा के नाम पर हुई हिंसा से जुड़े किसी मामले में आरोपियों को सजा हुई है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?