gurugram namaz 620x400

बीते दिनों गुरुग्राम में मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ हिन्दू संगठनों की बदसलूकी और खुले में नमाज से रोके जाने को लेकर वक्फ बोर्ड ने खट्टर सरकार को अपनी जमीनों की सूची देकर उन पर से अतिक्रमण हटाकर सौंपने की मांग कर डाली.

ऐसे में अब प्रशासन लगातार हिन्दू-मुस्लिम संगठनों से मैराथन मींटिग कर रहा हैं. तीसरे दिन भी बैठकों का दौर जारी रहा है. लेकिन कोई फैसला नहीं निकल पाया है. मुस्लिम समुदाय ने स्पष्ट कर दिया कि जब तक वक्फ बोर्ड की जमीने नहीं मिलेगी खुले में ही नमाज होगी.

सबसे पहले मुस्लिस संगठन और वक्फ बोर्ड के अधिकारियों के साथ प्रशासन ने बैठक की और शान्ति से मसले को हल करने की कोशिश की गई, लेकिन कोई समाधन नहीं निकला. बल्कि वक्फ बोर्ड की तरफ से प्रशासन को 19 मुस्जिदों पर कब्जे की एक लिस्ट दी गई और कहा गया कि मस्जिदों पर जब कब्जा हैं तो फिर नमाज कहा और कैसे अदा करें. जब तक नई मस्जिदे और पुरानी कब्जा मुक्त नहीं हो जाती तक तक प्रशासन कोई जगह सुनिश्चित कर उन्हें जगह मुहैया करवाए ताकि मुस्लिम समुदाय के लोगों को जुम्मे और रमजान की नमाज में कोई परेशानी ना हो.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीं मुस्लिम सगठनों की मीटिंग के बाद प्रशासन ने डीसी और सीपी की मौजूदगी में बैठक की और हिन्दू संगठनों से इस पूरे मसले पर शान्ति बनाए रखने की कोशिश की. लेकिन लगातार 2 घंटे तक चली इस बैठक में भी कोई ठोस समाधन नहीं निकल पाया. साथ ही हिन्दू संगठनों से इस मसले को अब प्रशासन के सिरे ही बांध कर पल्ला झाड़ लिया है. हिन्दू सगठनों की मानें तो खुले में मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज अदा नहीं करे और इसकी जिम्मेदारी भी प्रशासन ले.

वक्फ बोर्ड की 19 मस्जिदों की लिस्ट पर कब्जे की जानकारी देते हुए डीसी ने कहा की 19 में 12 मस्जिदों पर कोई कब्जा नहीं है और जिन पर कब्जा है उन्हें जल्द ही कब्जा मुक्त कर दिया जाएगा.

Loading...