sword

हिन्दू नववर्ष के मौके पर भागलपुर में बिना परमिशन के बीजेपी और संघ परिवार की और से शोभा यात्रा निकाली गई. इस दौरान मुस्लिम बहुल इलाके में आपत्तिजनक नारों और भड़काऊ गानों से माहौल को तनावपूर्ण किया गया. जिसका नतीजा ये हुआ कि शहर में हिंसा भड़क उठी.

इस मामले में पुलिस ने अब रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे और भारतीय जनता पार्टी नेता अर्जित शाश्वत को गिरफ्तार किया है. इस घटना के बाद रामनवमी के मौके पर चार जिलों तक सांप्रदायिक हिंसा फ़ैल गई. राज्य के मुंगेर, औरंगाबाद, समस्तीपुर में हिंसा हुई. जिसमे कई लोग घायल हुए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस हिंसा को लेकर अब बड़ा खुलासा हुआ है. एक स्टिंग ऑपरेशन में सामने आया कि ये दंगे पूरी तरह से सुनियोजित थे. दंगों के लिए पहले से ही कोरियर द्वारा 50 हजार से अधिक तलवारें बिहार मंगवाई गई थी. इतना ही नही सिर्फ पटना के एक व्यक्ति ने करोड़ों की तलवार मंगवाई थी.

स्टिंग में इन तलवारों की कीमत लगभग 2.5 से 5 करोड़ तक बताई जा रही है और ये तलवारें कूरियर से डिलीवर हुई है. अब ऐसे में सवाल उठता है कि जब इतनी बड़ी प्लानिंग हो रही थी तो प्रशासन और इंटेलिजेंस क्या कर रही थी.