राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को सीबीआई की विशेष अदालत ने आज चारा घोटाले के चौथे मामले में भी दोषी करार दे दिया है. हालाँकि अदालत ने पूर्व मुख्‍यमंत्री डॉ. जगन्‍नाथ मिश्र को सहित 12 आरोपितों को बरी कर दिया.

दुमका कोषागार से अवैध निकासी से जुड़े मामले में लालू की सजा पर बहस 21, 22 और 23 मार्च को होगी. लालू को भारतीय दंड सहिता की जिन धाराओं में दोषी करार दिया गया है, वे गंभीर हैं. ऐसे में उन्‍हें बड़ी सजा की संभावना है. अदालत ने कहा है कि सजा के बिंदु पर सुनवाई वीडियो काफ्रेसिंग से होगी.

बता दें कि लालू इसके पहले चारा घोटाला के तीन मामलों में दोषी करार दिए जा चुके हैं. लालू प्रसाद यादव इन दिनों बीमार हैं. उन्हें रांची इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) में भर्ती कराया गया था. रिम्स के डॉक्टरों के मुताबिक लालू यादव को पेरिएनल एब्सिस की बीमारी है. उनके मलद्वार में जख्म हो गया है. उन्हें डायबीटीज और हाइपर टेंशन भी है. उन्हें डॉक्टरों ने खिचड़ी, रोटी, हरी सब्जी, दाल और दही लेने की सलाह दी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

​चारा घोटाले के चौथे मामले में लालू यादव दोषी, पूर्व सीएम जगन्‍नाथ मिश्रा बरी

यह है मामला

तत्‍कालीन बिहार (अब झारखंड) के दुमका कोषागार से करीब 3.76 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में सीबीआई ने 1996 में एफआईआर दर्ज की थी. राशि की निकासी 1995 से 1996 के बीच हुई थी. मामले की जांच के बाद सीबीआई ने 11 अप्रैल 1996 को रिपोर्ट दर्ज की थी. चारा घोटाले में लालू प्रसाद के खिलाफ पांच मुकदमे सीबीआई ने दर्ज किए हैं.

अपने पति को दोषी करार दिए जाने पर बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा है कि वह कोर्ट के फैसले का सम्मान करती हैं. उन्होंने कहा कि वे अब राहत के लिए उच्च न्यायालय की शरण में जाएंगे.

Loading...