samsti

रामनवमी के मौके पर देश भर में मुस्लिम समुदाय के खिलाफ हिंसा के मामले सामने आ रहे है. ऐसे में बिहार का समस्‍तीपुर भी अछूता नहीं रहा. हिंदूवादी संगठनों ने रोसड़ा कस्‍बे में स्थानीय जामा मस्जिद को निशाना बनाया.

हिंदूवादी संगठनों ने न केवल मस्जिद में तोड़फोड़ की बल्कि मस्जिद में रखी धार्मिक पुस्तकों का भी अपमान करते हुए उन्हें निशाना बनाया. घटना का वीडियो  सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

वीडियो में एक युवक मस्जिद की मीनार पर चढ़कर भगवा झंडा लहराता दिख रहा है. जनसत्ता की रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रशासन इस पूरी घटना के दौरान मूकदर्शक बना रहा.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ रोसड़ा के गुदरी बाजार स्थित मस्जिद के पास से सोमवार को माता दुर्गा की प्रतिमा विसर्जन को जा रही थी. तब किसी शरारती तत्व ने मूर्ति की ओर चप्‍पल फेंक दी. इसी के विरोध में मंगलवार सुबह सैकड़ों लोग मस्जिद के पास इकट्ठा होकर आरोपी की बलि देने की मांग करने लगे.

समस्‍तीपुर के एसपी दीपक रंजन ने मीडिया को  बताया कि अब हालात सामान्‍य हैं. जानकारी मिलने पर पुलिस फौरन पहुंची और हालात को काबू में किया गया. जब पुलिस वहां पहुंची तो उन्‍हें भगवा झंडे नहीं मिले, केवल तिरंगा लगा हुआ मिला. एसपी के अनुसार, इस मामले में एक व्‍यक्ति को गिरफ्तार किया गया है.

बता दें की बिहार के औरंगाबाद में रामनवमी के जुलूस के दौरान 25 मार्च को दो समुदायों के बीच भारी झड़प हुई थी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?