modi chowk 2018031709302142 650x

बिहार के दरभंगा में शुक्रवार को हुई बीजेपी नेता के पिता की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि बीजेपी नेता के पिता की हत्या मोदी चौक नाम रखने की वजह से नहीं हुई है. इस हत्या के पीछे भूमि विवाद है.

दरभंगा एसएसपी सत्यवीर सिंह ने कहा कि उन्होंने अपनी निजी जमीन को नरेंद्र मोदी चौक का नाम दिया था. एसएसपी ने आगे कहा कि मृतक के बेटे को घायल करने के लिए बैटन (सौटा या रॉड) का इस्तेमाल किया गया था. गांव में कोई तनाव नहीं है.

इससे पहले कहा जा रहा था कि बलहा पंचायत के भदवा गांव स्थित चौराहे पर नरेंद्र मोदी चौक का बोर्ड लगाने पर भाजपा कार्यकर्ता व चाय-पान की दुकान चलाने वाले तेजनारायण यादव के पिता रामचंद्र यादव (62) की गुरुवार की रात कुछ लोगों ने धारदार हथियार से काट कर हत्या कर दी थी. इस घटना में तेजनारायण के भाई कमलेश यादव (35) भी गंभीर रूप से घायल हुए. घायल कमलेश का डीएमसीएच में इलाज चल रहा है. इस दर्दनाक हत्या का आरोप महागठबंधन समर्थक लोगों पर लगाया जा रहा था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस अधीक्षक की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ती में भी यह स्पष्ट हो चुका है कि मृतक के बेटे और बीजेपी नेता कमलदेव और तेज नारायण यादव का आरोपी कमलेश यादव के साथ पहले से ही घरारी जमीन को लेकर विवाद चल रहा था और दिलीप पासी नाम के शख्स से उसकी पहले से ही दुश्मनी थी. पुलिस की यह विज्ञप्ती तेजनारायण यादव की पत्नी सुशीला देवी के बयान के आधार पर है.

रामचंद्र यादव की बहू और तेजनारायण यादव की पत्नी सुशील ने बयान में कहा कि इनके ससूर रामचंद्र यादव और देवर भोला यादव उर्फ कमलदेव यादव को दिलीप पासी और कमलेश यादव ने अपने आदमियों को भेजकर हमला करवाया और ससूर को मरवा दिया.

पुलिस के अनुसंधान में घायल भोला यादव उर्फ कमलदेव यादव ने बयान दिया कि कमलेश यादव एवं उसके परिवार के साथ पहले से ही जमीन का विवाद चल रहा था और उन्हीं लोगों के द्वारा साजिश  करके कुछ अज्ञात हमलावरों को भेजकर घटना कराई गई.

Loading...