res

यदि किसी का बच्चा कम नंबर लेकर आए तो उसे मां-बाप दुनिया भर के ताने देते हैं और कहीं फ़ैल हो जाए तब तो आसमान सिर पर उठा लिया जाता है. लेकिन मध्य प्रदेश के सागर जिले में अलग ही मामला देखने को मिला है.

दरअसल, सागर के शिवाजी वॉर्ड में रहने वाले सुरेन्द्र कुमार व्यास ने अपने बेटे के फ़ैल होने पर पुरे मोहल्लें में मिठाई बांटी. सिविल कॉन्ट्रैक्टर सुरेन्द्र कुमार व्यास का घर रिजल्ट आने के साथ ही मिठाई और पटाखों से गूंज उठा.

जब लोगों ने पूछा तो उन्होंने बताया कि उनका बेटा दसवी में फ़ैल हो गया. जिसे सुनकर लोग हैरान रह गये. सुरेन्द्र व्यास ने बताया कि इस पार्टी का मकसद अपने बेटे को प्रोत्साहित करना है.

sww

उन्होंने कहा कि अक्सर ऐसा होता है कि परीक्षा में Fail होने के बाद बच्चे डिप्रेशन में चले जाते हैं और तो और कई बार अपनी जिंदगी समाप्त करने तक का कदम उठा लेते हैं. मैं ऐसे बच्चों को बताना चाहता हूं कि बोर्ड की परीक्षा ही जिंदगी की अंतिम परीक्षा नहीं होती . जिंदगी में आगे बहुत सारे अवसर आते हैं.

सुरेन्द्र ने कहा मेरा बेटा अगर फ़ैल हुआ है तो वह अगले साल फिर से परीक्षा दे सकता है, वहीं उनके बेटे आशु ने कहा कि मैं अपने पिता के इस फैसले की सराहना करता हूं.मैं अब वादा करता हूं कि और भी मेहनत से पढ़ाई करते हुए अगले साल कहीं बेहतर नंबर लेकर आऊंगा.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?