अलीगढ़ 20 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के इस्लामिक स्टडीज़ विभाग में धार्मिक सहिष्णुता पर फादर डाॅ. एमडी थोमस ने व्याख्यान प्रस्तुत किया। जिसका शुभारंभ आतिफ इमरान के कुरान पाठ से हुआ। विभिन्न पुस्तकों के लेखक तथा विभिन्न पुरस्कार विजेता डाॅ. थोमस ने कहा कि उन्हें कबीर दास द्वारा एक नया जीवन प्राप्त हुआ है। जिसने धार्मिक सांस्कृतिक सहिष्णुता का भारत में द्वीप प्रज्जवलित किया। उन्होंने कहा कि कबीर दास अन्य धर्मों का आदर करने तथा उनसे सीखने का पाठ पढ़ाते हैं।

उन्होंने कहा कि आपसी मनमुटाव समाप्त करना तथा घृणा की भावना से परे एक दूसरे को सहन करना, समझना तथा सीखना ही धार्मिक सहिष्णुता है। उन्होंने कहा कि धर्म को न तो जोर जबरदस्ती से मनवाया जा सकता है और न ही उसके विस्तार के लिये हिंसा का मार्ग अपनाया जा सकता है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 


इस्लामिक स्टडीज विभाग के अध्यक्ष प्रो. सैयद अहसन ने अपने अध्यक्षणीय भाषण में कहा कि भारत में पूर्व काल से ही विभिन्न धर्मों के मानने वाले शांति, सुकून तथा स्वतंत्रता के साथ एक दूसरे के अधिकारों का आदर करते रहे हैं।
डाॅ. जियाउद्दीन मलिक फलाही ने कहा कि आज की सिसकती बिलकती तथा अशांत मानवता को धार्मिक सहिष्णुता की महती आवश्यकता है। डाॅ. आदम मलिक, डाॅ. इम्तियाजुल हुदा, हारून जर्गर ने अतिथि से प्रश्न किये। इस अवसर पर बड़ी संख्या में इस्लमिक स्टडीज विभाग के अध्यापक, शोधार्थी तथा छात्र मौजूद थे।

अलीगढ़ 20 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के अजमल खाॅ तिब्बिया काॅलेज के यूनानी मेडीसन संकाय ने प्रो. सफदर सुल्तान के निधन पर एक शोक सभा का आयोजन किया गया जिसका शुभारंभ काजी जै़द के कुरान पाठ से हुआ। प्रो. खालिद जाम ने स्वर्गीय सुल्तान के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उनके निधन से जो क्षति हुई है उसकी पूर्ती संभव नहीं है। प्रो. यूसुफ अमीन ने प्रो. सफदर को एक अच्छा व्यक्ति तथा अच्छा शोधार्थी बताया। यूनानी मेडीसन संकाय के अधिष्ठाता ने कहा कि हमने एक अच्छा साथी खो दिया है। तिब्बिया काॅलेज के प्रधानाचार्य प्रो. सऊद अली खाॅ ने स्वर्गीय सफदर सुल्तान से अपने घनिष्ठ सम्बन्धों पर प्रकाश डाला। प्रो. गुफरान ने कहा कि स्वर्गीय सफदर सुल्तान से उनके सम्बन्ध छात्र अवस्था से थे तथा वह सदैव से पड़ने लिखने का शोक रखते थे। अंत में प्रो. अब्दुल मन्नान की प्रार्थना पर जलसे का समापन हुआ।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के जवाहर लाल नेहरू मेडीकल काॅलेज मानसिक रोग विभाग के अध्यक्ष प्रो. सुहैल आज़मी ने प्रो. सफदर सुल्तान के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि प्रो. सुल्तान मानवता में विश्वास रखने वाले एक अच्छे व्यक्ति तथा अपने विषय के माहिर थे। उन्होंने कहा कि कैफियात एक्सप्रेस के प्रारंभ होने पर हम लोगों के प्रयासों की सबसे पहले स्वर्गीय सफदर सुल्तान ने सराहना की। उन्होंने कहा कि सफदर सुल्तान जैसी विभूतियाॅ वर्षों बाद पैदा होती हैं और सदैव याद रहती हैं।

प्रो. सुहैल आज़मी ने प्रो. सुल्तान के साथ सड़क दुर्घना में घायल होने वाले प्रो. जफरूल इस्लाम के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की।
अमुवि के अरबी विभाग तथा इस्लामियात विभाग द्वारा प्रो. सफदर सुल्तान के निधन पर एक संयुक्त शोक सभा का आयोजन 21 फरवरी 2017 को अरबी विभाग के कांफ्रेंस हाल में दोपहर 12 बजे किया जायेगा।

(पी0आर0ओ0टीम)

अलीगढ़ 20 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के वीमेन्स काॅलेज के संस्थापक शेख मोहम्मद अब्दुल्लाह पापा मियां के जन्म दिवस के अवसर पर काॅलेज में संस्थापक दिवस का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल जमीर उद्दीन शाह सेवानिवृत ने की।

पापा मियां तथा उनकी पत्नी बेगम वहीद जहाॅ को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कुलपति ने महिला शिक्षा के क्षेत्र में उनकी सेवाओं की सराहना करते हुए कहा कि वीमेन्स काॅलेज पापा मियां तथा अमुवि के संस्थापक सर सैयद अहमद खाँ के सपनों की ताबीर है। उन्होंने कहा कि आवश्यकता है कि एक और अलीगढ़ आन्दोलन प्रारंभ किया जाए। उन्होंने कहा कि हमें मुसलमानों की भलाई के लिये नये स्कूलों की स्थापना का सिलसिला प्रारंभ करना चाहिए।

जनरल शाह ने कहा कि इस काॅलेज की छात्राऐं सर सैयद के संदेश की दूत हैं और जहाॅ भी जाएंगी वहाॅ धर्मनिर्पेक्षता, बहुलवाद के संदेश को आम करेंगी।
अमरीका से पधारीं कार्यक्रम की मुख्य अतिथि तथा वीमेन्स काॅलेज की पूर्व छात्रा प्रो. यासमीन सेकिया ने आयोजकों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उन्हें इस संस्था का दुबारा भ्रमण करने का अवसर प्रदान किया जिसके लिये वह उनकी आभारी हैं। श्रीमती सेकिया ने कहा कि उन्होंने वीमेन्स काॅलेज में सहिष्णुता तथा उदारता का जो पाठ याद किया था वह उनके जीवन में बहुत काम आया और उसी के आधार पर वह सफलता प्राप्त कर पायीं।
वीमेन्स काॅलेज की प्रधानाचार्य प्रो. नईमा गुलरेज ने वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करते हुए काॅलेज की छात्राओं की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला तथा काॅलेज में होने वाले विकास कार्यों का ब्योरा प्रस्तुत करते हुए कहा कि यह विकास कार्य मौजूदा विश्वविद्यालय प्रशासन की विशेष तवज्जो और दरियादिली का नतीजा हैं।
इस अवसर पर काॅलेज की पूर्व प्रधानाचार्य प्रो. आमना किशोर ने भी अपने विचार व्यक्त किये। कार्यक्रम की कोर्डीनेटर प्रो. निगहत ताज, पूर्व प्रधानाचार्य प्रो. जकिया सिद्दीक, अब्दुल्लाह हाल की प्रवोस्ट प्रो. रूमाना एन सिद्दीकी तथा काॅलेज की अध्यापिकाऐं एवं छात्राऐं बड़ी संख्या में उपस्थित थीं।
इस अवसर पर छात्राओं को उनकी उपलब्धियों के आधार पर सम्मानित किया गया। शिक्षा के क्षेत्र में प्रीती गुप्ता को डाॅ. जाकिर हुसैन सिल्वर मैडल जबकि मिस एम0जे0 हैदर अकेडमिक मेमोरियल एवार्ड से ऐमन जाफरी को तथा बेस्ट गर्ल के पापा मियां पदम भूषण अवार्ड से अलीना खाॅ को नवाजा गया।
डाॅ. मुनीरा टी0 ने कार्यक्रम का संचालन किया जबकि प्रो. शीला शहाब ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर काॅलेज की छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये।

(पी0आर0ओ0टीम)

अलीगढ़ 20 फरवरीः सर सैयद अहमद खान के द्विशतीय जन्म दिवस के अवसर पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में खेले जा रहे दृष्टिबाधित छात्रों के राष्ट्रीय क्रिकेट टूर्नामेंट के फायनल मैच में अमुवि के अहमदी स्कूल फाॅर विजुअली चैंलेंज्ड ने उत्तर प्रदेश ब्लाइंड क्रिकेट एशोसियशन, लखनऊ को 43 रनांे से हराकर ट्राफी पर प्राप्त की।

अहमदी स्कूल ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 15 ओवर में 8 विकेट पर 147 रनों का लक्ष्य देकर लखनऊ की टीम को हरा दिया। अहमदी स्कूल की ओर से दीपक मलिक ने 36 बोलों पर 66 रन बनाये जब कि लखनऊ टीम के सैयद गाजी ने 26 बोलों में 29 रनों का योगदान दिया। दोनों खिलाड़ियों को बैस्ट स्कोर के लिए पुरूस्कार दिये गये जब कि टूर्नामेंट के बैस्ट खिलाड़ी के रूप में अहमदी स्कूल के दीपक मलिक तथा रामवीर सिंह को प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया गया है। इस अवसर पर मुख्य अतिथि आई0जी0 श्री अंशुमन यादव, आई0पी0एस0 ने टूर्नामंेट में शामिल सभी टीमों की उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सराहना की।

इस अवसर पर अमुवि रजिस्ट्रार प्रोफेसर जावेद अख्तर तथा स्कूल एजूकेशन के निदेशक प्रोफेसर मुहम्मद गुलरेज ने भी छात्रों का उत्साहवर्धन किया। अहमदी स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमती फिरदौस रहमान ने बाहर से आने वाली सभी टीमों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि उनकी सहभागिता से इस टूर्नामेंट को राष्ट्रीय होने का गौरव प्राप्त हुआ है।
इस अवसर पर कंट्रोलर प्रोफेसर यूसुफ उज्जमा खान, वीमेन्स कालिज की प्रिंसिपल नईमा गुलरेज, प्रोफेसर असफर अली खान तथा प्रोफेसर हुमायूॅ मुराद आदि उपस्थित थे।
———————–
अलीगढ़ 20 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के इंटरडिसिपिलनरी डिर्पाटमंेट आॅफ रिमोट संेसिंग एण्ड जी0आई0एस0 एप्लीकेशन्स के डा0 सैयद मुहम्मद असगर रिजवी ने हाल ही में दिल्ली में आयोजित एक अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस में भाग लिया तथा जी0आई0एस0 आधारित ट्रांसफोरमेशन विषय पर एक शोध पत्र प्रस्तुत किया।
डा0 रिजवी ने अपने शोध पत्र में ड्रोन मैपिंग, 3 डी0 मैपिंग, मल्टी डाइमेंशनल, माॅडलिंग, बिग डेटा एनालाइसिस तथा नगर विकास के लिए जी0आई0एस0 एप्लीकेशन जैसे कई महत्वपूर्ण विषयों पर प्रकाश डाला।

डा0 सैयद मुहम्मद असगर रिजवी

(पी0आर0ओ0टीम)

अलीगढ़ 20 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि कुछ समाचार पत्रों में प्रकाशित अमुवि कुलपति लेफ्टीनेंट जनरल (सेवानिवृत) जमीर उद्दीन शाह के विरूद्ध सी0बी0आई0 जाॅच का समाचार निराधार तथा वास्तविकता से परे है।
अमुवि रजिस्ट्रार कार्यालय द्वारा दिये गये स्पष्टीकरण में कहा गया है कि अमुवि कुलपति के विरूद्ध इस प्रकार की किसी जाॅच का गठन नहीं हुआ है और कथित रूप से सी0बी0आई0 टीम द्वारा अमुवि परिसर का दौरा करने तथा अधिकारियों से पूॅछ ताॅछ का समाचार पूर्ण रूप से मनगढ़ंत तथा तथ्यहीन है। वास्तविकता यह है कि सी0बी0आई0 के एक प्रतिनिधि ने 18 फरवरी 2017 को रजिस्ट्रार से भेंट कर दिसम्बर 2016 में सी0बी0आई0 द्वारा प्रेषित जाॅच आख्या से सम्बन्धित कुछ और जानकारी हासिल कीं। सी0बी0आई0 प्रतिनिधि के विश्वविद्यालय दौरे को कुछ समाचार पत्रों में तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत किया गया है जिसका कुलपति के विरूद्ध किसी प्रकार की जाॅच से कोई सम्बन्ध नहीं है।
विश्वविद्यालय ने स्पष्ट किया है कि उक्त समाचार विश्वविद्यालय तथा कुलपति लेफ्टीनेंट जनरल जमीर उद्दीन शाह के चरित्र पर आघात है, तथा इस प्रकार के समाचार की भत्र्सना की जानी चाहिए। विश्वविद्यालय प्रशासन ने समाचार पत्रों से आग्रह किया है कि वह इस सम्बन्ध में स्पष्टीकरण प्रकाशित कर विश्वविद्यालय की गरिमा का सम्मान करें।

(पी0आर0ओ0टीम)

Loading...