Sunday, June 26, 2022

बीजेपी मंत्री जानबूझकर नहीं चुका रहा लोन, बैंक ने अखबार में छपवाया नोटिस

- Advertisement -

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री सुरेंद्र पटवा जानबूझकर लोन नहीं चुका रहे है। जिसके चलते बैंक ऑफ बड़ौदा ने विलफुल डिफॉल्टर लिस्ट में डालकर उनके खिलाफ शोकाज नोटिस जारी किया है।

बता दें कि सुरेंद्र पटवा ने पटवा ऑटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड के नाम से  शो-रूम शुरू करने के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा से लोन लिया था। ये लोन शो-रूम खोलने के नाम पर लिया गया था। लेकिन उन्होने किस्‍तें नहीं चुकाई। इसलिए बैंक ने उन्हें नोटिस जारी किया है। बैंक ने इससे पहले भी मंत्री को नोटिस जारी किया था।

मंत्री पर आरोप है कि उन्होंने बैंक से कर्जा तो लिया लेकिन क्षमता होने के बावजूद वो उसे चुका नहीं रहे हैं। बैंक द्वारा निकाली गई रिकवरी में शामिल फूलकुंवर पटवा मप्र के पूर्व मुख्यमंत्री स्व. सुंदरलाल पटवा की पत्नी है। साथ ही मोनिका पटवा, भारत पटवा, महेंद्र पटवा के नाम भी शामिल है।

सुरेंद्र पटवा के ख़िलाफ पहले ही चैक बाउंस का मामला सामने आ चुका है, जो फिलहाल अदालत में विचाराधीन है। उस केस की सितंबर में सुनवाई है। उधार देने वाली फर्म ने जिला कोर्ट में पटवा के खिलाफ परिवाद दायर किया।

200

जान बूझकर कर्ज नहीं लौटाने वाले को कहते हैं विलफुल डिफॉल्टर

बैंक से कर्ज लेकर उसे जान बूझकर नहीं लौटाने वाले को विलफुल डिफॉल्टर कहा जाता है। भारतीय रिजर्व बैंक की गाइडलाइन के मुताबिक कोई भी बैंक या वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों को निम्न परिस्थितियों में विलफुल डिफॉल्टर घोषित कर सकती है।

  • वित्तीय क्षमता होने के बावजूद जब देय तिथि तक ग्राहक कर्ज की किस्त नहीं लौटाए।
  • जिस मकसद से कर्ज लिया गया है उस मकसद के अलावा किसी अन्य काम में कर्ज की राशि का उपयोग किया जाए।
  • जब कंपनी या ग्राहक कर्ज की राशि के उपयोग का कोई औचित्य नहीं बता सके।
  • कर्ज की राशि से खरीदी गई संपत्ति को बगैर बैंक या वित्तीय संस्थान को जानकारी दिए बगैर किसी अन्य को बेच दिया गया हो।
- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles