यूपी: मंदिर में प्रवेश करने पर जातिवादी गुंडों ने दलित युवक को मारी गोली

यूपी के अमरोहा जिले में मंदिर में प्रवेश और पुजा करने को लेकर एक 17 वर्षीय दलित किशोर विकास की गांव के कथित ऊंची जाति के लोगों ने गोली मारकर ह’त्या कर दी। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, कुछ लोगों ने युवक को मंदिर में पूजा करने से रोका था। इसी के बाद से विवाद बढ़ गया और युवक की गोली मारकर ह’त्या कर दी गई।

विकास जाटव के बड़े भाई दिनेश ने क्विंट से कहा कि वो “सिर्फ न्याय की उम्मीद कर रहा है और उसके भाई के हत्यारों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग करता है।” विकास के पिता ओम प्रकाश जाटव ने आरोप लगाया कि ह’त्या का संबंध एक हफ्ते पहले के उस विवाद से है, जो विकास और आरोपी के बीच उनके गांव डोमखेड़ा के एक मंदिर में घुसने पर हुआ था। ओम प्रकाश ने कहा, “जब विकास ने उन लड़कों की बात नहीं मानी तो उन्होंने उसे पीटा, धमकी दी और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल कर गाली भी दी। उस समय हम पुलिस स्टेशन गए थे लेकिन वो मेरे बेटे को नहीं बचा पाए और अब वो इस दुनिया में नहीं है।”

द टेलीग्राफ के अनुसार, ओम प्रकाश ने कहा, ‘जाटव जाति का होने के कारण ऊंची जाति के एक युवक होरम चौहान  व कुछ अन्य लोगों ने उसे मंदिर में प्रवेश करने से रोका. लेकिन विकास ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया और वहां पूजा की।’

ओम प्रकाश ने आरोप लगाया कि उनके बेटे की पिटाई की गई और पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, ‘उसके पूजा खत्म करने के बाद ऊंची जाति के कई लोगों ने उसकी पिटाई की। उस समय हमने पुलिस से शिकायत की लेकिन उन्होंने एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया।’

वहीं SHO नीरज कुमार ने क्विंट को बताया, “घटना में जाति का कोई एंगल नहीं है। इस बात का वीडियो सबूत मौजूद है कि दलित उस मंदिर में दशकों से जा रहे हैं। विकास और होरम में पैसे को लेकर कुछ आपसी विवाद था। विकास के परिवार को कुछ पैसा वापस देना था।”

चार में से जिन तीन आरोपियों की पीड़ित परिवार ने पहचान की थी, उनको पुलिस ने पकड़ लिया है। SHO कुमार ने कहा, “एक और लड़के को परिवार ने नहीं पहचाना है लेकिन उसका नाम जांच में आया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।  उसने हत्या की साजिश में होरम की मदद की थी।”

विज्ञापन