रूडकी | कोहराम ने 3 अगस्त 2017 को, कथित शिवसेना नेता अशोक धीमान के रूडकी में रहने वाले असिस्टेंट प्रोफेसर हिमांशु गुप्ता के घर पर कब्जे की खबर को प्रमुखता से छापा था. मामले की तहरीर गंगनहर कोतवाली रूडकी में भी दी गयी थी. इसके बाद पुलिस व सामाजिक दबाव के चलते अशोक धीमान ने 17 अगस्त को मकान खाली कर दिया. खाली करने के बाद भी उस शख्स ने खाली कमरे में ताला लगाकर हिमांशु से पैसे की मांग की.

विदित हो की ऐसी ही कोशिश उसने आदर्श नगर में रहने के दौरान भी की थी. यहाँ उसने मकान मालिक श्रीमती संतरेश को भी शिवसेना नेता होने की धोंस दी थी. तब वहां के मोहल्ले वालो के सहयोग से संतरेश ने बड़ी मुश्किल से अशोक धीमान से पीछा छुड़ाया था. इसके बाद उसने हिमांशु का घर किराये पर लिया था. इस घर से वह अपने गोरखधंदे संचालित कर रहा था. रोजाना 3-4 लोग उसके पास पैसे मांगने या अपना कुछ काम कराने के लिए पैसे देने आते थे.

अभी हाल ही में बोर्ड परीक्षाओ में फ़ैल हुए विधार्थियों को पास कराने के लिए उसने मोटा पैसा लिया. उसकी इन्ही हरकतों के कारण मोहल्ले वाले भी उससे काफी परेशान थे. इसके बाद हिमांशु गुप्ता ने हमारे संवादाता से सम्पर्क किया तो हमने इस खबर को प्रमुखता के साथ अपनी न्यूज़ वेबसाइट में जगह दी. आखिर एक शख्स अपना घर खर्च चलाने के लिए अपने घर को किराए पर देता है. लेकिन इस तरह के कथित नेता उनके भोलेपन का फायदा उठाते है.

यही वजह है की हिमांशु की पीड़ा को समझते हुए हमने इसे अपने न्यूज़ पोर्टल में जगह दी. इसका असर यह हुआ की सामाजिक दबाव और कुछ पुलिस दबाव के कारण उसको आखिरकार घर खाली करना पड़ा. घर खाली होने के बाद हिमांशु ने कोहराम से बात करते हुए धन्यवाद दिया. हिमांशु ने यह भी बताया की अशोक धीमान ने जाते जाते भी कुछ ऐसी हरकत की जिसे मानवता के लिहाज से बेहद घटिया करार दिया जा सकता है. वह घर में लगे ज्यादातर पानी के नालो की टोंटी को उतारकर अपने साथ ले गया. हिमांशु ने बताया की उसने उसे करीब 4 महीने का किराया और बिजली के बिल समेत करीब 35 हजार रूपए का चुना लगाया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?