मध्य प्रदेश के नागरिक आपूर्ति मंत्री ओम प्रकाश धुर्वे पर अपने गैर सरकारी संगठन के जरिए फर्जी बिलों से चार करोड़ रुपये का गबन करने का आरोप हैं. जिसके चलते कांग्रेस ने उनके इस्तीफे की मांग की है.

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि  यदि मंत्री अपने पद से इस्तीफा नही देते तो उनके खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार करना चाहिए.  सिंह का आरोप है कि धुर्वे ने वर्ष 2008 से 2012 के बीच दीनदयाल चलित अस्पताल योजना में अपने एनजीओ गजानन शिक्षा एवं जन सेवा समिति के जरिए चार करोड़ रुपये का ठेका लिया था.

उन्होंने कहा, धुर्वे को डिंडोरी, मंडला, शहडोल और उमरिया जिले के 86 आदिवासी ब्लाक में दीनदयाल चलित अस्पताल योजना को सुविधाएं मुहैया करानी थी, लेकिन धुर्वे ने ऐसा नहीं किया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सिंह ने जो बिल लगाए हैं, उन वाहनों के नंबर परिवहन विभाग में सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल बस, डिंडोरी नगरपालिका के फायरबिग्रेड वाहन एवं जबलपुर के नाम पद दर्ज हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि धुर्वे ने गाड़ियों के फर्जी नंबर देकर चार करोड़ रूपए की राशि हड़प ली है. इस संबंध में ओमप्रकाश धुर्वे से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उन्होंने मोबाइल फोन नहीं उठाया.

 

Loading...