mar

आवारा गायों की देखबाल के लिए बनाई गई बुझावड़ स्थित मारवाड़ आदर्श मुस्लिम गोशाला में एक व्यक्ति द्वारा गोमांस पकाए जाने की अफवाह फैला कर बखेड़ा खड़ा कर दिया गया। जिसके बाद शिव सैनिकों ने जमकर हंगामा किया।हालांकि जांच में सामने आया कि मुर्गी का मांस पकाया गया था।

जानकारी के अनुसार, अचानक से शिव सैनिकों ने यहां मृत गायों को जमीन में गाड़े जाने और गौमांस पकाने का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया।सूचना मिलने पर पुलिस अधिकारी वहां पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित किया। पुलिस ने जांच की तो मजदूर राजू ने नजदीक की मीट की दुकान से मुर्गी का मीट लाने की बात कही। पुलिस राजू को लेकर मीट की दुकान पर गई तो दुकानदार ने भी मुर्गी का मीट बेचने की पुष्टि की।

गौशाला संचालक और मारवाड़ मुस्लिम एजुकेशन सोसायटी के मोहम्मद अतीक का कहना है कि गौशाला को बदनाम करने की नीयत से कुछ लोग अफवाहें फैला रहे हैं। सोसायटी की ओर से बोरानाडा थाना और पुलिस आयुक्त को इस संबंध में शिकायत भी दी गई है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि जोधपुर शहर में रेलवे स्टेशन से करीब 14 किमी. की दूरी पर बुझावड़ गांव में मारवाड़ मुस्लिम एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसायटी द्वारा 2004 में इस गोशाला को शुरू किया गया है। मुहम्मद अतीक बताते हैं, “बिना किसी सरकारी अनुदान के सोसायटी ने गायों की सेवा के लिए पूरा ‘फण्ड’ दिया है।

83 cownew 5

गौशाला प्रभारी अब्दुल सत्तार के अनुसार, प्रतिदिन गायों को चरवाहे के साथ खुला चरने के लिए भी भेजा जाता है। इससे गायें स्वस्थ रहती हैं। इन गायों में गौशाला के प्रति इतना लगाव है कि बिना कहीं पर इधर उधर भटके हुए शाम के वक्त गौशाला लौट जाती हैं। इन गायों के नाम भी रोचक हैं, गंगा, अंजलि, शिवड़ी, कालकी, धोलकी, मिसना, मरगड़ी आदि।

गायों का नियत समय पर लौट आना, इस गौशाला के सुचारू प्रबंधन का सबूत है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह ऐसी गौशाला है जिसके कोई भी चारदीवारी या दरवाजा नहीं है, सभी व्यवस्थाएं खुले में आसमान के नीचे की गई हैं।

Loading...