हैदराबाद। पुरी पीठ के जगदगुरू शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद ने कहा कि प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी को प्रधानमन्त्री का पद गोधरा दंगों की वजह से मिला हैं. उन्होंने कहा, अगर गोधरा नहीं हुआ होता तो आज मोदी भी प्रधानमंत्री नहीं होते.

उन्होंने कहा कि जिस तरह आडवाणी और वाजपेयी ने राम रथ पर सवार होकर सत्ता संभाली उसी तरह गोधरा कांड की वजह से मोदी को प्रधानमन्त्री बनाना हासिल हुआ. उन्होंने कहा, अगर गोधरा नहीं हुआ होता तो नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री भी नहीं रहते और फिर आज प्रधानमंत्री भी नहीं बनते.

उन्होंने कहा कि भाजपा गाय के मुद्दे और राम भक्तों की मेहनत से सत्ता में आई है. ऐसे में अब राम मंदिर बनना चाहिए. उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी के लिए बिना बहुमत वाली सरकार का मसला था लेकिन मोदी के लिए ऐसा कोई बहाना नहीं है. उनके पास बहुमत है और उन्हें अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण करना चाहिए.

शंकराचार्य ने आगे कहा, अगर राम मंदिर नहीं बना तो ये फिर से शुरू किया जाएगा और मंदिर निश्चित रूप से बनाया जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि राम जन्म भूमि पर उत्खनन प्रामाणिक था. उन राजनीतिज्ञों की आलोचना की जो राम मंदिर के निर्माण में बाधाएं पैदा कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि जब वेटिकन सिटी को राज्य का मुख्यालय घोषित किया जा सकता है तो चार शंकराचार्यों की पीठ को धार्मिक पूंजी के रूप में क्यों घोषित नहीं किया जा सकता.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें