बजट पर बोले शामली के किसान – नहीं चाहिए खैरात

7:00 pm Published by:-Hindi News

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (पीएम-किसान) योजना के तहत छोटे किसानों को सालाना छह हजार रुपये की मदद दिए जाने का ऐलान किया है। यह रकम दो-दो हजार रुपये की तीन किश्तों में सीधे किसानों के बैंक खाते में डाले जाएंगे। यह राशि हर दिन के हिसाब से 17 रुपये बैठती है। ऐसे में ये किसान सरकार की इस योजना को बस ‘चुनावी नौटंकी’ करार दे रहे हैं। उनकी शिकायत है कि आखिर इतनी छोटी सी रकम से वह अपना कर्ज कैसे चुका पाएंगे।

कैराना के किसान सुधीर भारतीय कहते हैं कि किसान इतनी जमीन पर एक साल में खाद पानी और देखभाल पर लगभग सवा लाख रुपए खर्च कर रहा है। सूबे की सरकार सिर्फ बिजली के 18 हजार रुपये ले रही है। उसके एक बच्चे की स्कूल की फीस 10 हजार रुपये सलाना के आसपास है। भारतीय कहते हैं, “सरकार एक परिवार को 17 रुपये रोजाना देकर किसान की खिल्ली उड़ा रही है। हमें इसकी जरूरत नही है। हमें हमारी फसलों का उचित दाम मिले। स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू हो। किसानों के गन्ने का लगभग 10 हजार करोड़ रुपया बकाया है। सरकार हमारा पैसा हमें लौटा दे, हमें भीख नही चाहिए।”

मंसूरपुर के गांव जीवना में 18 बीघा की खेती करने वाले इस्लाम अहमद के अनुसार मोदी ने वादा तो 15 लाख का किया था, लेकिन अब 6 हजार देने की बात कही है। इसमें भी 3 किश्त है। इस बार वो पक्का देंगे, लेकिन आगे की गारंटी नहीं है। इस्लाम की बीवी मुनाजरा के मुताबिक इस्लाम 500 रुपये की एक महीने में सिर्फ बीड़ी पी जाते हैं।

शामली में एक शुगर मिल पर किसान गन्ने के भुगतान को लेकर एक सप्ताह से भी ज्यादा समय से धरने पर बैठे रहे। कोई सुनवाई नहीं होने पर थक जाने की वजह से उन्हें खुद ही धरने से उठना पड़ा। भुगतान के नाम पर उन्हें सिर्फ सरकारी भरोसा दिया गया। इसी धरने के दौरान आत्महत्या के इरादे से एक किसान जयपाल सिंह पानी की टंकी पर चढ़ गया था। अब इस बजट के बाद जयपाल सिंह का कहना है, “यह ऊंट के मुंह में जीरा जैसा है। सरकार गुड़ दिखाकर डले (कंकर) मार रही है। हमें बस हमारी मेहनत का फल दे दो।”

सिर्फ किसान ही नहीं बल्कि किसान नेता भी सरकार के इस फैसले पर नाराजगी जता रहे हैं। किसानों के संगठन भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने सरकार के इस बजट की कड़ी आलोचना की है। टिकैत कहते हैं, “जनता इस बजट का जवाब चुनाव में देगी। किसान स्वाभिमानी समाज है, वह मेहनत करके अपना और देश के लोगों का पेट भरता है। उसे किसी खैरात की जरूरत नही है। उसे उसका अधिकार चाहिए।”

टिकैत ने कहा कि किसानों को उम्मीद थी कि सरकार स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करेगी। फसलों के समर्थन मूल्य पर सौ फीसद खरीद का प्रावधान होगा। किसानों की आत्महत्या रोकने के लिए सम्पूर्ण कर्ज माफी होगी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। किसान नेता ने कहा, “अब 500 रुपये महीना उनके जले पर नमक छिकड़ने जैसा है। किसान उम्मीद कर रहा था कि उसकी फसल बीमा योजना का प्रीमियम कम होगा। दूध के गिरते दामों को रोकने का प्रावधान होगा। मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ है।”

शामली के किसान शुभम मलिक कहते हैं, “अभी सरकार के पास कंडीशन नाम का इक्का है। पहले कर्जमाफी का तगड़ा शोर मचाया गया, फिर इतनी शर्तें सामने आई कि किसान ठगा सा रह गया।” वहीं सुधीर कहते हैं, “अगर आने वाले कल में सरकार यह शर्त लगा दे कि जिस किसान के पास ट्रैक्टर या बुग्गी भैंसा है, तो वो इस योजना से बाहर है या आधार कार्ड जैसी विशेष किसान कार्ड जैसा कुछ नया ले आए तो फिर क्या होगा! दरअसल बात 2 हजार की है ही नहीं। बात नीयत की है और यह सरकार पूंजीपतियों की है इसलिए हमें इनकी मंशा पर शक है। योजना को पीछे से यानि दिसंबर से लागू करने का मतलब साफ है इस काम मे चुनाव है, वोट है”।

बागपत के युवा किसान आरिफ राजपूत कहते हैं कि किसानों को हमेशा से हाथों की ताकत पर यकीन रहा है और वह अपना भविष्य खुद चुनता रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों को 6 हजार रुपये की मदद किसान सम्मान नहीं बल्कि किसानों के अपमान की योजना है।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें