उत्तर प्रदेश में सपा के सीनियर नेता और पूर्व मंत्री अंबिका चौधरी ने बसपा का दामन थामन लिया है. मुलायम और शिवपाल के बेहद नजदीकी अंबिका चौधरी का टिकट मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने काट दिया था. बिका चौधरी यूपी के राजस्व मंत्री रह चुके हैं.

बसपा में शामिल होते ही अंबिका चौधरी ने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव पर हमला करना भी शुरू कर दिया हैं. उन्होंने समाजवादी पार्टी के पारिवारिक कलह को राज्य में बीजेपी की मजबूती के लिए जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी की कलह की वजह से सेक्युलर शक्तियां कमजोर हुईं. दलित और अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा के लिए उन्होंने बसपा ज्वाइन की है.

उन्होंने कहा कि सपा सेक्यूलर, मुसलमानों, दलितों और पिछड़ों की हिफाजत करने की बजाय परिवार के झगड़े में लगी रही है. अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए चौधरी ने कहा कि जिस तरह से अखिलेश यादव द्वारा अपने पिता मुलायम का अपमान किया गया उससे सभी लोग नाराज हैं.

मायावती बलिया के फेफना सीट से ही अंबिका को चुनाव में उतारने की तैयारी कर चुकी हैं. अंबिका का बीएसपी में जाना एसपी के लिए झटके से कम नहीं क्योंकि वह एसपी के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें