एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि फडणवीस सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. उन्होंने साफ कहा कि अगर शिवसेना फडणवीस सरकार से समर्थन वापस लेती हैं तो वे इस सरकार को कतई समर्थन नहीं देंगे. उन्होंने कहा कि मैं यह बात लिखकर देने के साथ उसकी एक प्रति राज्यपाल को भी भेजने के लिए भी तैयार हैं.

पवार ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा वह ये बात राज्यपाल को लिखकर देने को तैयार हैं कि उनकी पार्टी भाजपा को समर्थन नहीं देगी लेकिन हम चाहेंगे कि शिवसेना भी ऐसा ही एक पत्र राज्यपाल को दे.  पवार ने कहा कि, विधानसभा चुनाव के बाद हमने बीजेपी को समर्थन देने की पेशकश इसलिए की थी क्योंकि पहली बार आई बीजेपी सरकार से लोगों को बड़ी उम्मीदें थीं, लेकिन इन्होंने आम जनता के उम्मीदों पर पानी फेर दिया. सरकार पूरी तरह से असफल हो गई हैं.

पवार के अनुसार शिवसेना के समर्थन वापस लेने की दशा में ढाई साल बाद यदि फड़नवीस सरकार गिरती है, तो कोई बड़ी बात नहीं है. महाराष्ट्र इतना झेल सकता है. फडणवीस को अच्छा काम करने का अवसर मिला था, लेकिन उन्होंने वह अवसर गंवा दिया. अब सरकार गिरने की नौबत आ गई है.

उन्होंने कहा कि शिवसेना के समर्थन वापसी के बाद महाराष्ट्र में मध्यावधि चुनाव तय हैं, परंतु अभी शिवसेना की भूमिका साफ नहीं है. वह खुलकर समर्थन वापसी की घोषणा नहीं कर रही. पवार ने कहा कि अब शिवसेना किसानों के लिए कर्जमाफी की मांग कर रही है. मुझे नहीं लगता कि सरकार बचाने की कीमत पर मुख्यमंत्री के लिए किसानों की खातिर रियायतों की घोषणा करना मुश्किल होगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें