anj

anj

श्रीनगर: जम्मू और कश्मीर स्थित अनंतनाग जिला आतंकी घटनाओं से सबसे ज्यादा पीड़ित है. बावजूद यहाँ के रहने वाले मुजफ्फर अहमद मलिक ने कश्मीर एडिमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (KAS) पास की है.

उत्रसू गांव निवासी मुजफ्फर अहमद मलिक के घर काफी खुशी का माहौल है. अपनी सफलता पर मलिक ने कहा कि उनके गांव में लोग इन चीजों से अंजान हैं, यहां तक कि वो सरकार की स्कीमों के बारे में भी नहीं जानते.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा, KAS उनके लिए नया शब्द है. उन्होंने कहा कि वो अपने गांव के लिए काम करना चाहते हैं. वो सिविल परीक्षाओं की तैयारी भी करेंगे.

वहीँ दुसरे है अंजुम. पुंछ जिले के सूरनकोट में जन्में अंजुम का न केवल कश्मीर सिविल सर्विसेज में चयन हुआ है. बल्कि यह  टॉपर भी हैं. अंजुम का परिवार भी आतंकियों के हमले का शिकार भी रहा है.

1990 के दशक में आतंकियों ने उनका घर जला दिया था, जिस कारण उनके परिवार को जम्मू आकर बसना पड़ा था. लेकिन उन्होंने कभी हिम्मत नहीं हारी और इस साल जम्मू कश्मीर सिविल सेवा में टॉप किया.