अजमेर: विश्व प्रसिद्ध हज़रत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती उर्फ़ ख्वाजा गरीब नवाज (रह.) की दरगाह के सबंध में हिंदूवादी संगठन शिवसेना हिंदुस्तान (एसएसएच) की और से जारी धमकी भरे वीडियो के जारी करने के बाद दरगाह की सुरक्षा बढ़ा दी गई है.

दरअसल, शिवसेना हिंदुस्तान की और से जारी वीडियो में दरगाह को गिराने की अपील के साथ राम मंदिर स्थापित करने की धमकी दी है. हालांकि शिवसेना हिन्दुस्तान के सदस्यों का कहना है कि न्हें वायरल हुए वीडियो के लिए जिम्मेदार ठहराने की कहानी एक कपटपूर्ण योजना है. इस मामले में संगठन ने पुलिस आयुक्त को पत्र लिखकर जांच की मांग की है.

वहीँ एसएचओ संजय बोथारा कहना है कि वायरल हुए वीडियो को उन्होंने इंटरनेट पर पाया जिसमें शिवसेना हिन्दुस्तान का सदस्य लखन सिंह मुख्य रूप से लोगों को धार्मिक आधार पर भड़का रहा है. उन्होंने कहा कि उसका मोबाइल जब्त कर लिया गया है और यही वीडियो उसके मोबाइल में मिला है. इस वीडियो को आगे की जांच के लिए भेजा गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस अधीक्षक राजेंद्र सिंह ने सुरक्षा के सबंध में बताया कि “हमारी फोर्स पहले से वहां है और हम किसी भी अनहोनी को रोकने के लिए कुछ-कुछ अंतराल पर स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं. हमने अपनी टीम के सदस्यों को हालात के हिसाब से कार्रवाई करने का निर्देश दिया हुआ है. मौके पर सीसीटीवी कैमरे लगा दिए गए हैं.”

ध्यान रहे राजस्थान की तीन सीटों पर 29 जनवरी को उपचुनाव होने है. जिनमे अलवर और अजमेर लोकसभा सीट सहित भीलवाड़ा जिले के माण्डलगढ़ विधानसभा सीट शामिल है. ऐसे में चुनाव के चलते अजमेर दरगाह के नाम पर धुर्विकरण  की कोशिश की जा रही है.

Loading...