sarva

sarva

अजमेर के सरवाड़ स्थित सूफी संत हजरत  ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती (रह.) के पुत्र ख्वाजा फखरूद्दीन चिश्ती (रह.) की दरगाह के मुतवल्ली हाजी मोहम्मद यूसुफ को राजस्थान मुस्लिम वक्फ बोर्ड ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया.

दरअसल उन्हें भ्रष्टाचार के आरोपों के तहत हटाया गया है. उनके स्थान पर बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आरएएस अफसर अमानुल्लाह खां को प्रबंधन का चार्ज सोंपा गया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पिछले दिनों मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के अजमेर जिले के दौरे के दौरान उन्हें सरवाड़ दरगाह के मुतवल्ली मोहम्मद यूसुफ के दरगाह के नजराने में गबन घपले की शिकायत मिली थी.

सीएम को बतायागया कि अजमेर शहर की अनेक मस्जिदों की दुर्दशा हो रही है, लेकिन वक्फ बोर्ड के सदस्य के तौर पर यूसुफ खान कुछ नहीं कर रहे हैं. जबकि खान ने अजमेर में अन्दर कोट सम्पर्क सड़क की पहाड़ी पर आलीशान कोठी बना ली.

इस पर सरकार के निर्देशानुसार बुधवार को वक्फ बोर्ड की आपात बैठक बुलाई गई. बैठक में सर्वसम्मति से यूसुफ खान को दरगाह के मुतवल्ली के पद से सस्पेंड करने का निर्णय लिया गया. साथ ही खान के कामकाज की जांच कराने का भी फैसला लिया गया.

Loading...