उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार ने चुनाव में जारी किये गए घोषणापत्र में जो वादे किये थे उनमे से अल्पसंख्यक समुदाय को आरक्षण देने का वादा पूरा न करने के कारण समाजवादी पार्टी के लिए मुसीबत बन गया हैं. हाल ही में AMU के छात्र नेता आर. हसन ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया हैं जिसमें अखिलेश यादव पर घोषणापत्र मे किए वादो को पूरा न कर जनता विशेष रूप से अल्पसंख्यक के साथ धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया हैं. ये मुकदमा चीफ न्यायिक मजिस्ट्रेट अलीगढ़ (सी जे एम) की अदालत में मुकदमा नंबर 400/11/2016 धारा 156 (3) के तहत दायर किया गया है।

हसन का कहना है कि समाजवादी पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में वादा किया था कि मुसलमानों को पिछड़ेपन के आधार पर आरक्षण दिया जाएगा और मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में प्राथमिक और उच्च स्तरीय स्कूल स्थापित किए जाएंगे लेकिन सपा सरकार ने अपना वादा नहीं निभाया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हसन ने इससे पहले भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एक कानूनी नोटिस भेजा चुके थे, जिसमें कहा गया था कि पिछले विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी ने घोषणापत्र में झूठे वादे करके जनता के साथ धोखा किया है, जो आईपीसी की धारा 467, 420 और 471 के तहत अपराध है।

याद रहे कि समाजवादी पार्टी ने अपने चुनावी घोषणापत्र में उत्तर प्रदेश के मुसलमानों से बड़े बड़े वादे किए थे, जिसमें एक वादा मुसलमानों को 18 प्रतिशत आरक्षण देने का भी था।

Loading...