तीन तलाक के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ने वाली सायरा बानो को उत्तराखंड की सरकार ने राज्यमंत्री का दर्जा देकर सम्मानित किया है। साथ ही त्रिवेंद्र रावत सरकार ने सायरा बानो को राज्य महिला आयोग का उपाध्यक्ष भी बनाया है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ट्वीट कर जानकारी देते हुए कहा, सुप्रीम कोर्ट में पहली बार तीन तलाक के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर आवाज उठाने वाली सायरा बानो जी को राज्य महिला आयोग की उपाध्यक्ष, अल्मोड़ा की श्रीमती ज्योति मिश्रा शाह जी को उपाध्यक्ष और चमोली की श्रीमती पुष्पा पासवान जी को उपाध्यक्ष (तृतीय) बनाया है। सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।

सायरा बानो को महिला आयोग में उपाध्यक्ष (प्रथम), रानीखेत की ज्योति शाह को उपाध्यक्ष (द्वितीय) और चमोली की पुष्पा पासवान को उपाध्यक्ष (तृतीय) बनाया गया है। सायरा बानो ने हाल ही में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की थी। उत्तराखंड बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के मुताबिक, सायरा बानो ने तीन तलाक के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी और अब वो भाजपा की विचारधारा को आगे बढ़ाएंगी।

उत्तराखंड के काशीपुर की रहने वाली सायरा बानो ने ही पहली बार तीन तलाक (Triple Talaq), बहुविवाह (Polygamy) और निकाह हलाला पर बैन लगाने की मांग करते हुए फरवरी 2016 में सुप्रीम कोर्ट में अर्ज़ी दाखिल की थी।

सायरा का​ निकाह 2002 में इलाहाबाद के एक प्रॉपर्टी डीलर से हुआ था। सायरा ने आरोप लगाया था कि शादी के बाद उन्हें हर दिन पीटा जाता था। शौहर रोज़ छोटी-छोटी बातों पर झगड़ा करता था और उन्हें टेलीग्राम के ज़रिए तलाकनामा भेजा। वह एक मुफ्ती के पास गईं तो उसने कहा कि टेलीग्राम से भेजा गया तलाक जायज है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano