kas

kasganj560 1517029808 618x347

उत्तरप्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा को लेकर प्रदेश के नौकर शाह सोशल मीडिया के जरिए अपना नजरिया पेश कर रहे है. बरेली के डीएम के बाद अब सहारनपुर की लेडी अफसर रश्मि वरुण ने इस मामले में अपने विचार प्रकट किये.

कासगंज हिंसा की तुलना सहारनपुर के मामले से करते हुए उन्होंने लिखा, यह थी कासगंज की तिरंगा रैली. यह कोई नई बात नहीं है. अम्बेडकर जयंती पर सहारनपुर के सड़क दूधली में भी ऐसी ही रैली निकाली गई थी. उसमें से अम्बेडकर गायब थे या कहिए कि भगवा रंग में विलीन हो गये थे. कासगंज में भी यह ही हुआ. तिरंगा गायब और भगवा शीर्ष पर.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

डिप्टी डायरेक्टर रश्मि वरुण

उन्होंने हिंसा में मारे गए चंदन गुप्ता को लेकर कहा, जो लड़का मारा गया, उसे किसी दूसरे तीसरे समुदाय ने नहीं मारा. उसे केसरी, सफेद और हरे रंग की आड़ लेकर भगवा ने खुद मारा. पोस्ट में आगे लिखा, जो नहीं बताया जा रहा वह यह है कि अब्दुल हमीद की मूर्ति पर तिरंगा फहराने की बजाये रैली में चलने की जबरदस्ती की गई. केसरिया, सफेद, हरे और भगवा रंग पे लाल रंग भारी पड़ गया.

इस दौरान उन्होंने बरेली डीएम का भी समर्थन किया है. इमोजी के साथ डिप्टी डायरेक्टर ने लिखा है कि पाकिस्तान में जाकर नारे लगाकर मरना है क्या इन्हें. बरेली डीएम आर. विक्रम सिंह द्वारा इस मामले में सफाई देने पर उन्होंने कहा, देखिये सही बात का किस तरह अपना स्पष्टीकरण देना पड़ता है…सही इंसान को भी माफी मांगनी पड़ती है.

डिप्टी डायरेक्टर ने ये भी लिखा है कि यही सच है, न पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगे, न तथाकथित तिरंगा यात्रा रोकी गई. ये सब व्हाट्स एप यूनिवर्सिटी का खेल था.

Loading...