यूपी के सहारनपुर में भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष के छोटे भाई सजीव वालिया की गोली मारकर हत्या के मामले से शुरू तनाव अब भी बरकरार है. परिजनों ने मृतक के पोस्टमार्टम कराने से भी इनकार कर दिया है.

परिजन चारो आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे है. जिलाध्यक्ष कमल वालिया के छोटे भाई सचिन वालिया की उनके गांव रामनगर में उस समय गोली लगने से मौत हो गई जब वह अपने घर लौट रहा था.

आरोप है कि गांव में स्थित महाराणा प्रताप भवन में महाराणा प्रताप जयन्ती कार्यक्रम में आए युवकों ने सचिन की गोली मारकर हत्या की है. परिजनों ने जयंती में शामिल राजपूत समाज के चार युवकों पर हत्या का आरोप लगाया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

हत्या के बाद विलाप करते परिजन

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सचिन की मां कांति वालिया की तहरीर पर चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है. इसके अलावा महाराणा प्रताप जयंती कार्यक्रम को भी प्रशासन ने स्थगित करा दिया गया.

घटना के बाद तनाव को देखते हुए जिले में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई. स्कूलों में समय से पहले छुट्टी करा दी गई. भारी संख्या में पुलिस बल, पीएसी, आरएएफ़ तैनात है. कमल वालिया ने अपने भाई की मौत का जिम्मेदार पुलिस प्रशासन को ठहराया है.

कमल वालिया ने कहा कि सत्ता के दवाब में महाराणा प्रताप जयंती मनाने की अनुमति दी गई है, जिसका हमने विरोध भी किया था, हमें धमकी भी मिली. धमकी की जानकारी देने के बावजूद मुझे और मेरे भाई को कोई सुरक्षा नहीं दी गई, जिसके कारण ही उनके भाई की हत्या हुई है.

Loading...