rajsamand massacre case1 768x402

rajsamand massacre case1 768x402

राजस्थान के राजसमंद में मुस्लिम बुजुर्ग मुहम्मद अफ्जरुल की हत्या करने वाले हैवान शंभूलाल रेगर के महिमामंडन करने के लिए सड़कों पर उतरे भगवा उपद्रवियों के सामने वसुंधरा सरकार घुटने टेकती हुई नजर आ रही है.

उदयपुर में बड़ी संख्या में उपद्रवियों ने धारा 144 का उल्लंघन करते हुए जमकर उत्पात मचाया. बावजूद प्रशासन ने इन भगवा उपद्रवियों को जमानत देते हुए रिहा कर दिया. पुलिस और भगवा संगठनों के प्रतिनिधियों की दो घंटे की मुलाक़ात के बाद प्रशासन ने 132 लोगों को जमानत पर रिहा कर दिया. साथ ही 75 युवाओं को कोर्ट में पेश करने की सहमति बनी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ध्यान रहे भगवा संगठनों ने धारा 144 को तोड़ते हुए उदयपुर शहर के चेतक सर्किल, टाउन हॉल रोड, कोर्ट चौराहा और शास्त्री सर्किल पर रैली निकालने का प्रयास किया था. इस दौरान पुलिस ने रैली को रोकने का कोशिश की. जिसके बाद भगवा कार्यकर्ताओं ने जमकर उत्पात मचाया.

इस दौरान एडिशनल एसपी सहित पुलिस के 31 जवान घायल हुए हैं, जबकि 4 सिपाहियों को गंभीर चोटें आई हैं थी. साथ ही आम जनता को भी नुकसान का सामना करना पड़ा.

पुलिस ने 153 लोगों को एडीएम सिटी के समक्ष जमानत के लिए पेश किया गया. जिसमें सभी को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया है. इस मामले में बचे हुए अन्य 53 लोगों को शनिवार को पुलिस द्वारा कोर्ट में पेश किया जाएगा. अब ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या भगवा उपद्रवियों के आगे झुकने वाली वसुंधरा सरकार मुहम्मद अफ्जरुल को इंसाफ दे सकती है ?

Loading...