लखनऊ के ठाकुरगंज में यूपी एटीएस के हाथों मारे गए कथित आतंकी सैफुल्लाह के बारें में बड़ा खुलासा हुआ हैं. सैफुल्लाह बाराबंकी के पास देवा शरीफ में स्थित विश्व प्रसिद्ध हाजी वारिस अली शाह की दरगाह को निशाना बनाना चाहता था.

इसका खुलासा उसके लैपटॉप से हुआ हैं. जिसमे दरगाह पर ब्लास्ट करने की योजना थी. बरामद किये गये लैपटॉप से कुछ जिहाद से सम्बंधित विडियो मिले है जिनमे पाकिस्तान की दरगाहों पर ब्लास्ट होते दिखाया गया है. भोपाल-उज्जैन पैसेंजर में ब्लास्ट के बाद गिरफ्तार हुए फैजान और इमरान, नाम के युवकों ने बताया कि इन आठों ने दरगाह पर ब्लास्ट की योजना बनाई थी. फैजान ने अपने भाई इमरान के साथ कई बार दरगाह का मुआयना की किया था.

इस खुलासे के बाद हडकंप मचा हुआ हैं. उत्तर प्रदेश एटीएस, एनआईए और पुलिस की टीम ने देवा शरीफ दरगाह को घेर लिया है. इसके अलावा देवा कसबे  के आस-पास स्थित गेस्ट हाउसों, घरों और होटलों की भी सघन तलाशी ली जा रही है.

एटीएस आईजी असीम अरुण के मुताबिक सैफुल्लाह के पास से मिले दस्तावेजों के मुताबिक सैफुल्लाह और उसका नेटवर्क 27 मार्च को बाराबंकी जिले में आतंकी हमले की तैयारी में था. हालांकि अरुण ने ज्यादा डिटेल्स नहीं दिया लेकिन कहा कि जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?