पंजाब डीजीपी का विवादित बयान – सुबह करतारपुर साहिब जाने वाला शाम को आतंकी बनकर….

पंजाब पुलिस के डीजीपी दिनकर गुप्ता के पाकिस्तान स्थित सिखों के सर्व्वोच धर्मस्थल करतारपुर कॉरिडोर को आतंकवाद से जोड़ने पर बवाल मच गया है। 20 फरवरी को एक अखबार के कार्यक्रम में डीजीपी ने कहा था कि कॉरिडोर से करतारपुर जाने वाला शाम को आतंकी बनकर लौट सकता है।

करतारपुर कॉरिडोर से एंट्री फ्री किए जाने पर एतराज जताते हुए उन्होने कहा था कि करतारपुर जाने वाले श्रद्धालु वहां छह घंटे रुकते हैं और इस दौरान किसी को भी आतंकवाद का पाठ पढ़ाया जा सकता है और बम बनाने की ट्रेनिंग भी दी जा सकती है।

डीजीपी ने कार्यक्रम में आगे कहा, ‘ये बड़ी चिंता की बात है और यही वजह है कि इसे इतने सालों तक नहीं खोला गया। मैं इंटेलिजेंस ब्यूरो में 8 सालों तक था और इन चिज़ों को देखता था। हमलोग ये सोचते थे कि सुरक्षा को देखते हुए कॉरिडोर को खोलना बड़ी चुनौती होगी। लेकिन बाद में सिख समुदाय के लोग इसे खोलने की मांग करने लगे तो हमने उनका सपना पूरा किया। लिहाजा़ सुरक्षा चिंताओं को हमने ठंढ़े बस्ते में डाल दिया।’

गुप्ता की टिप्पणी पर शिरोमणि अकाली दल और आम आदमी पार्टी ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से 24 घंटे के भीतर स्पष्टीकरण देने की मांग की थी। अकाली दल के वरिष्ठ नेता बिक्रम सिंह मजीठिया ने चेतावनी दी है कि यदि स्पष्टीकरण नहीं होता है तो उनकी पार्टी 24 फरवरी को विधानसभा नहीं चलने देगी।

हालांकि डीजीपी दिनकर गुप्ता ने बयान जारी कर सफाई दी कि उनके बयान को गलत समझा जा रहा है, बल्कि जानबूझकर गलत समझा जा रहा है। उन्होंने कहा, “मैंने सिर्फ अराजक तत्वों द्वारा करतापुर कॉरिडोर के संभावित दुरुपयोग के खतरे के बारे में बताया था।”

विज्ञापन