आरक्षण की मांग को लेकर महाराष्ट्र में पिछले कई दिनों से आंदोलन जारी है। इसी बीच अब मुस्लिमो के लिए भी आरक्षण की मांग हो रही है। कांग्रेस विधायक अमीन पटेल ने मुसलमानों के लिए आरक्षण की मांग की है।

उन्होंने कहा कि मराठा और धनगर समाज के लोगों के साथ हमें मुसलमानों के लिए भी आरक्षण चाहिए। मुसलमान समाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े हुए हैं। वे एसबीसीए (स्पेशल बैकवर्ड कैटोगरी-ए, मुसलिम रिजर्वेशन) के तहत आते हैं।

अमीन पटेल ने कहा कि मराठा और ढांगर समाज के साथ मुस्लिमों को भी आरक्षण मिलना चाहिए। बता दें कि मराठा आरक्षण की मांग को लेकर हुए आंदोलन के बाद फडणवीस सरकार बैकफुट पर दिखाई दे रही है। महाराष्ट के कांग्रेस विधायक की ये मांग बीजेपी सरकार के लिए और परेशानियां खड़ी कर सकती है।

 

दूसरी और मराठा आंदोलन के समर्थन में महाराष्ट्र विधानसभा से छह विधायकों ने इस्तीफा सौंप दिया है। लेकिन इन विधायकों की सदस्यता विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के शुरू होने तक कायम रहेगी। दो विधायकों ने बुधवार को इस्तीफा सौंपा था, जबकि चार विधायकों ने गुरुवार को इस्तीफा दिया है। इनमें दो भाजपा के विधायक हैं।

विधानसभा अध्यक्ष हरिभाउ बागडे ने कहा है कि इस्तीफा स्वीकार नहीं किया जा सकता। इसका कारण यह है कि सदन में पत्र पढ़ा जाना अनिवार्य है और आग्रह स्वीकार या इन्कार करने से पहले उनके इस्तीफे के लिए कारण भी बताना होगा। उन्होंने कहा कि जब स्थान रिक्त हो जाएगा तो भारत के निर्वाचन आयोग को सूचना दी जाएगी। इसलिए हमें शीतकालीन सत्र के शुरू होने तक इंतजार करना होगा। महाराष्ट्र विधानमंडल का शीतकालीन सत्र 19 नवंबर से शुरू होगा।