उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में स्थित संत कुटीर आश्रम में मोक्ष दिलाने के नाम पर गरीब बच्चियों को लाया जाता था. फिर उनके साथ बलात्कार किया जाता था.

इस मामले में आश्रम से भागी चार साध्वियों ने आश्रम के प्रमुख बाबा सच्चिदानंद सहित चार अन्य बाबाओं के खिआफ सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज कराया है. पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों को पकड़ने के लिए टीमे गठित कर दी है.

शुरूआती जांच में सामने आया कि महंत के बस्ती स्थित आश्रम में करीब 20 वर्षों से यह गोरखधंधा संचालित किया जा रहा था. छत्तीसगढ़ की रहने वाली पीड़िताओं ने बताया कि सचिदानंद लंबे समय से कम उम्र की लड़कियों का यौन शोषण करता था.

पीड़िताओं का आरोप है कि महंत के चेले देशभर में जाकर सत्संग करते और फिर गरीब परिवार की कम उम्र की लड़कियों को भक्ति के रास्ते पर चलकर मोक्ष दिलाने का झांसा देकर आश्रम में ले आया करते थे.  उन्होंने बताया कि उन्हें आश्रम में लाने के बाद दो महिला साध्वियों के सहयोग से महंत ने कई बार उनके साथ बलात्कार किया और विरोध करने पर अपने चेलों से भी उनका यौन शोषण कराया.

साध्वियों का आरोप है कि महंत सचिदानंद खुद को भगवान मानता था और साध्वियों से खुद की पूजा कराता था. पीड़िताओं का कहना है कि आश्रम की जो साध्वियां गर्भवती हो जाती थीं उनका डारीडीहा के एक घर में गर्भपात करा दिया जाता था.

इस मामले में एसपी संकल्प शर्मा ने बताया कि मामले में महंत सचिदानंद, उसके चेले परमचेतनानंद, विश्वासनंद, ज्ञान बैराग्यानंद, प्रमिला बाई, कमला बाई पर धारा 376 डी 342, 323, 506 के तहत केस दर्ज कर इनकी गिरफ्तारी के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें