बुधवार को रामनवमी के मौके पर पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में तलवारों के साथ रैली की अगुवाई करने के मामलें में पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रमुख दिलीप घोष के खिलाफ मामला दर्ज किया गया हैं.

गुरुवार को घटना का संज्ञान लेते हुए पश्चिम मिदनापुर जिला पुलिस ने कार्रवाई कर खड़गपुर थाना पुलिस स्टेशन में घोष और उनके समर्थकों के खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया हैं. वरिष्ठ जिला पुलिस अधिकारी ने बताया कि जिन्होंने भी रैली में तलवार हाथ पकड़ रखी थी उन सभी के खिलाफ केस शुरू किया गया है.

याद रहे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जुलूस में हथियार ले जाने पर बीजेपी को कानूनी कार्रवाई की चेतावनी पहले ही दे दी थी उन्होंने कहा था कि ऐसे लोगों के खिलाफ कानून अपना काम करेगा. उन्होंने कहा, ‘कोई भी एबीसीडी नहीं होगा. सभी बराबर हैं.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुरुलिया में एक प्रशासनिक बैठक में बोलते हुए गुरुवार को ममता ने कहा, ‘कुछ बीजेपी नेता, जो बंगाली संस्कृति को नहीं जानते, उन्होंने भय का वातावरण बनाने के लिए तलवारों के साथ रैली निकाली.’ उन्होंने कहा ‘भगवान राम मां दुर्गा की आराधना पुष्पों से करते थे ना कि तलवारों से, राम ने रावण को मारने के लिए दंगों का सहारा नहीं लिया था.’

ममता ने कहा कि कानून ऐसे राजनेताओं के खिलाफ अपना काम करेगा जिन्होंने हथियारों के साथ रैलियों का आयोजन किया वहीँ एडीजी कानून व्यवस्था अनुज शर्मा ने ‘पीटीआई भाषा को बताया, ‘घातक हथियारों के साथ जुलूस निकालना अवैध है. इस मुद्दे पर दर्ज पुलिस शिकायत पर हम उचित कानूनी कार्रवाई करेंगे. कानून अपना काम करेगा. हम स्थिति पर करीबी नजर रखे हुए हैं.’

Loading...