bjp

bjp

सांप्रदायिकता की भेंट चड़ा समाज अब अपना नैतिक स्तर भी खोता जा रहा है. बलात्कार जैसे घिनोने अपराध में भी धर्म की आड़ लेकर आरोपियों को बचाने की कोशिश की जजा रही है.

मामला जम्मू के कठुआ से जुड़ा है. जहाँ दुष्कर्म-हत्या मामले में गिरफ्तार किए गए एक पुलिस अधिकारी को रिहा कराने के लिए हिंदू एकता मंच के नेतृत्व में हिन्दू समुदाय के लोगों ने तिरंगा यात्रा निकाली. हिंदू एकता मंच ने कल मुघवाल से हिरणगर की ओर से ये रैली निकाली.

इस रैली को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने ट्विटर पर अपना गुस्सा व्यक्त किया. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘कठुआ में हाल में पकड़े गए दुष्कर्मी के बचाव में मार्च और प्रदर्शन से चकित हूं. इन प्रदर्शनों में उनके (प्रदर्शनकारियों) द्वारा हमारे राष्ट्रीय ध्वज के इस्तेमाल पर भयभीत हूं, यह बेअदबी के सिवाय और कुछ नहीं है. मुख्यमंत्री ने कहा कि आरोपी को गिरफ्तार किया गया और कानून अपना काम करेगा.

इस मामले में प्रदर्शनकारियों का कहना है कि “हम नाबालिग लड़की की हत्या के खिलाफ हैं, लेकिन हम नहीं चाहते कि हमारे लोगों को फंसाया जाए. यदि ऐसी चीजें जारी रहती हैं, तो लोग सड़कों पर बाहर आते हैं. बीजेपी नेता विजय शर्मा ने विरोध प्रदर्शन का बचाव किया. उन्होंने कहा, खजुरिया को गलत तरीके से फंसाया गया है.

उनके अनुसार, “पुलिस उत्पीड़न से लोगों की रक्षा” करने के लिए पिछले महीने हिंदू एकता मंच बनाया गया था. शर्मा ने कहा कि वह कठुआ जिले के हिरनगर निर्वाचन क्षेत्र में मंच के प्रमुख हैं, जिसका भाजपा विधायक कुलदीप राज ने प्रतिनिधित्व किया है. कसाना और उसके आसपास के गांव हीरनगर निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा हैं.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें