akb

कथित गौरक्षा के नाम पर अलवर में पीट-पीट कर की गई रकबर की हत्या के मामले में अलवर पुलिस ने शुक्रवार को रामगढ़ की सिविल कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी।

रामगढ़ पुलिस थाने के थानाधिकारी चौथमल जाखड़ ने बताया कि भादस की धारा 302 (हत्या) के तहत यह आरोपपत्र अलवर की अदालत में दाखिल किया गया है। तीन आरोपियों आईपीसी की धारा 302, 341, 323, 34 के तहत आरोप पत्र दाखिल किया है।

तीन आरोपियों में धर्मेंद्र यादव, परमजीत सिंह व नरेश कुमार हैं। इन आरोपियों में विश्व हिंदू परिषद का कार्यकर्ता नवल किशोर भी शामिल है। कोर्ट में पेश 25 पेज की चार्जशीट में एफएसएल रिपोर्ट नहीं थी। कोर्ट ने एक बार इसे अस्वीकार कर दिया। उपाधीक्षक (द.) अशाेक चाैहान ने 1 माह में विसरा रिपोर्ट पेश करने की अंडरटेकिंग दी। तब कोर्ट ने चार्जशीट स्वीकारी।

akbb1

चार्जशीट मे पुलिस ने स्वीकारा कि आरोपी घटनास्थल पर पहले से घात लगाकर बैठे थे। जैसे ही रकबर अपने साथी असलम के साथ वहां से गुजरा तो आरोपियों ने उन पर हमला कर दिया। पुलिस ने बताया है कि 20 जुलाई की रात को आरोपी ललावंडी निवासी धर्मेन्द्र कुमार यादव, परमजीत सिंह, नरेश कुमार और विजय शर्मा योजनाबद्ध तरीके से धर्मेन्द्र यादव के खेत में गए। वे वहां से गुजरने वाले गोतस्करों के पकड़ने के लिए खेत में बैठ गए।

इस दौरान रकबर उर्फ अकबर और उसका साथी असलम मेव दो गायों को लेकर अपने गांव की तरफ जा रहे थे। जैसे ही वे खेत में पहुंचे तो वहां पहले से बैठे हुए धर्मेन्द्र व उसके साथियों ने उनको पकड़ लिया। इस दौरान असलम किसी तरह से खुद को छुड़ाकर भाग गया और रकबर वहीं रह गया, जिसकी उन्होंने पिटाई कर डाली।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें