shambhu

shambhu

राजस्थान के राजसमंद में मुस्लिम बुजुर्ग मुहम्मद अफ्जरुल की हत्या करने वाले हैवान शंभूलाल रेगर ने कथित लव किहाड़ का हवाला देकर बहुसंख्यक हिन्दू समाज की सहानुभूति हासिल करने का जो खेल खेला है. उस पर से भी अब पर्दा उठता जा रहा है.

शंभूलाल ने वीडियो में जिस औरत का हवाला दिया. उसने शंभूलाल के दावों को खारिज कर दिया है. औरत का कहना है कि वह उसकी मर्जी से 2010 में मोहम्मद बबलू शेख के साथ बंगाल के मालदा गई. लेकिन करीब 2 साल रहने के बाद 2013 में  अपनी मर्जी से वापस लौट आई.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

महिला ने स्पष्ट किया कि शंभूलाल उसे लेकर नहीं आया था. महिला ने बताया कि उसकी जात का होने की वजह से वह शंभूलाल को जानती थी. और उसे राखी भी बांधी थी. साथ ही उसने उसकी माँ से 10,000 रुपए भी लिए थे.

महिला का कहना है कि उसका अफराजूल की हत्या से कोई लेना देना नहीं है. रैगर मार्बल का काम करने से पहले मजदूरी करता था, इसीलिए वो इन मजदूरों को जानता है.

पुलिस ने महिला का बयान दर्ज कर लिया है. पुलिस का कहना है कि महिला को बचाने जैसे रैगर के दावों से जुड़ा कोई सबूत अभी तक नहीं मिला है. मारे गए अफराजुल की पत्नी का कहना है कि उसके पति ने दूसरी शादी नहीं की थी. वो परिवार और बच्चों वाला शांत आदमी था.

Loading...