मध्यप्रदेश के राजगढ़ में गणतंत्र दिवस पर आपत्तिजनक गाने और नारों के लगाए जाने से भड़की हिं’सा के बाद अब कई गांवों में मुस्लिमों के प्रवेश पर बैन लगाया गया है। बाकायदा पुलिस को खत लिखकर कहा गया कि मुस्लिम विक्रेताओं के गांवों में प्रवेश करने पर नुकसान के जिम्मेदार खुद होंगे।

Loading...

जानकारी के अनुसार, खुजनेर शहर में गणतंत्र दिवस पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें ये हिंसा हुई। हिंसा के बारे में एक समूह ने कहा कि आपत्तिजनक टिप्पणी की थी जिसके बाद हिंसा हुई। वहीं जूसरे समूह का कहना है कि दो लोगों को बीच पुराना विवाद था जिसे लेकर विवाद हुआ। जिसके बाद से ही पुलिस ने धारा 144 लागू कर दी।  पुलिस ने 16 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, जिसमें दोनों पक्षों के लोग शामिल हैं। इनपर दंगा भड़काने का आरोप है।

हालांकि पुलिस ने मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये सभी एक ही समुदाय से है। इनके नाम हैं, समद खान, साकिर खान, अकबर खान, जाकिर खान, इम्तियाज खान और समीर खान। इस कारण पुलिस की कार्रवाई भी शक के घेरे में है।

खुजनेर पुलिस ने मुस्लिम विक्रेता के खिलाफ कई लेटर मिलने की पुष्टि की हैं। पुलिस का कहना है कि सभी को कहीं भी काम करने का अधिकार है, संविधान में इस तरह के प्रतिबंधों को मंजूरी नहीं दी गई है। कोई भी किसी को कोई बिजनेस करने से रोक नहीं सकता। साथ ही धर्म के आधार पर किसी को कहीं प्रवेश करने से भी रोका नहीं जा सकता।

घटना के बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा का वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने कई ट्वीट किए। साथ ही उन्होंने हिंसा में घायल हुए बच्चों से भी मुलाकात की। उन्होंने कहा कि ये मध्यप्रदेश की संस्कृति नहीं है।। इसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। साथ ही उन्होंने मांग की कि दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाए।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें