भारतीय सेना की सबसे बड़ी छावनी झांसी की हर गतिविधि की जानकारी पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई को पहुंचाने के आरोप में यूपी एटीएस ने शुक्रवार को झाँसी के एडीएम (न्याय) के स्टेनो को हिरासत में लिया था. हालांकि उसे अब जमानत मिल गई है.

हालांकि एटीएएस ने राघवेन्द्र की पत्नी का मोबाइल कब्जे में लिया है. इसी के साथ राघवेंद्र की कॉल डिटेल में एक नंबर मिला है, जो सिर्फ 9 डिजिट का है. इसी नंबर से आर्मी के मूवमेंट की सूचना दी जाती थी. वहीं, राघवेन्द्र का कहना है कि जिला प्रशासन के एक अधिकारी के आदेश पर वह सूचनाएं बताता था. उससे कहा गया था कि यह नंबर सेना के एक अधिकारी का ही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ऑफिस के जिस कम्प्यूटर से यह सूचनाएं भेजी जा रही थी वह एक महीने पहले तक एसडीएम के स्टेनो रहे (अब एडीएम का स्टेनो) राघवेन्द्र अहिरवार का था. एटीएस आईजी असीम अरुण ने बताया, पिछले काफी समय से लगातार एसडीएम ऑफिस के इस कम्प्यूटर को ट्रेस किया जा रहा था. इस पर काम करने वाला राघवेंद्र भी रडार पर था.

आईजी एटीएस असीम अरुण ने बताया, झांसी में देश की दूसरी सबसे बड़ी छावनी है। यहां सेना अक्सर फायरिंग रेंज में अभ्यास करती है. सेना के जो भी मूवमेंट होते हैं, उसकी जानकारी जिला प्रशासन को दी जाती है, ताकि जिला प्रशासन इलाकों में रहने वाले लोगों को सतर्क कर दे. सेना के इसी मूवमेंट की जानकारी लीक की जा रही थी.
Loading...